इलाहाबादहाईकोर्टनेकहाहैकिअभिव्यक्तिकीस्वतंत्रताअसीमितनहींहै,कुछप्रतिबंधभीहै।अभिव्यक्तिकीआजादीकेनामपरकिसीकोदूसरेकीधार्मिकभावनाओंकोठेसपहुंचानेकाअधिकारनहींहै।भगवानरामऔरकृष्णकेखिलाफसोशलमीडियामेंअश्लीलटिप्पणीकेमामलेमेंकोर्टनेकहाकिरामकेबिनाभारतअधूराहै।जिसदेशमेंरहरहेहैं,उसदेशकेमहापुरुषोंवसंस्कृतिकासम्मानकरनाजरूरीहै।कोईईश्वरकोमानेयानमाने,उसेकिसीकीआस्थापरचोटपहुंचानेकाअधिकारनहींहै।

आकाशजाटवकीसशर्तजमानतमंजूर

कोर्टनेकहाहमारीसंस्कृतिवसुधैवकुटुंबकमकीरहीहै।

सर्वेभवन्तुसुखिनः,सर्वेसन्तुनिरामयाः।सर्वेभद्राणिपश्यंतु,माकश्चितदुःखभागभवेत।

ऐसीकामनाकरनेवालेलोगहैं।कोर्टनेभगवानरामकृष्णकेखिलाफअश्लीलटिप्पणीकरनेवालेआकाशजाटवउर्फसूर्यप्रकाशकोदोबाराऐसेअपराधनकरनेकीचेतावनीदेतेहुएसशर्तजमानतमंजूरकरलीहै।कोर्टनेकहाकियाचीपिछले10माहसेजेलमेंबंदहैं।विचारशीघ्रपूराहोनेकीसंभावनानहींहै।

सुप्रीमकोर्टनेभीदातारामकेसमेंकहाहैकिजमानतअधिकारहैऔरजेलअपवाद।इसलिएजमानतपररिहाकियाजाए।यहआदेशन्यायमूर्तिशेखरकुमारयादवनेहाथरसकेआकाशजाटवकीअर्जीपरदियाहै।

याचीनेकोर्टमेंखुदकोबतायानिर्दोष

याचीकाकहनाथाकि28नवंबर19कोकिसीनेउसकीफर्जीआईडीतैयारकरअश्लीलपोस्टडाली।वहनिर्दोषहै।औरयहभीतर्कदियाकिसंविधानमेंअभिव्यक्तिकीआजादीहै,जिसेअपराधनहींमानाजासकता।सरकारीवकीलनेकहाकियाचीअहमदाबादअपनेमामाकेघरगयाथा।जहांअपनासिमकार्डमामाकेलड़केकेमोबाइलफोनमेंलगाकरअश्लीलपोस्टडालीहैऔरएफआईआरदर्जहोतेहीमोबाइलफोनवसिमकार्डतोड़करफेंकदियाहै।

धर्मनमाननेवालानास्तिकहोसकताहै

कोर्टनेकहाकिसंविधानमेंमूलअधिकारदिएगएहैं।उसीमेंसेअभिव्यक्तिकीआजादीकाअधिकारभीहै।संविधानबहुतउदारहै।धर्मनमाननेवालानास्तिकहोसकताहै।इससेकिसीकोदूसरेकीआस्थाकोठेसपहुंचानेकाअधिकारनहींमिलजाता।कोर्टनेसुप्रीमकोर्टकेहवालेसेकहाकिमानवखोपड़ीहाथमेंलेकरनृत्यकरनेकीअनुमतिनहींदीजासकती।यहअपराधहै।

ईदपरगोवधपरपाबंदीहै

कोर्टनेकहाईदपरगोवधपरपाबंदीहै।वधकरनाअपराधहै।सूचनाप्रौद्योगिकीकानूनमेंभावनाओंकोठेसपहुंचानेकाकामगैरजमानतीअपराधहै।अभिव्यक्तिकीआजादीअसीमितनहींहै।राज्यमेंसुरक्षा,अफवाहफैलाना,अश्लीलताफैलानाअभिव्यक्तिकीआजादीनहीं,वल्किअपराधहै।तांडवसीरीजपरकोर्टनेकहाहैकिअभिव्यक्तिकेअसीमितअधिकारनहींहै।

कोर्टनेकहाहमारेऋषिमुनियोंनेइंसानकोभगवानबननेकेरास्तेदिखाएंहैं।टैगोरजीनेकहाकिरामायणमहाभारतमेंभारतकीआत्माकेदर्शनहोतेहैं।महात्मागांधीकेजीवनमेंभीरामकामहत्वरहाहै।सामाजिकसमरसतारामायणसेइतरकहींनहींदिखती।सबरीकेजूठेबेरखानेसेलेकरनिषादराजकोगलेलगानेतकसामाजिकसमरसताकाहीसंदेशदियागयाहै।

वसुधैवकुटुंबकम्केभावअन्यकिसीभीदेशमेंनहीं

भगवतगीतामेंकर्मफलसिद्धांतकावर्णनहै।आत्माअमरहै।वहकपड़ेकीतरहशरीरवैसेबदलतीहै,जैसेबछड़ाझुंडमेंअपनीमांकोढूंढ़लेताहै।मनशरीरकाहिस्साहै।सुखदुखकाअहसासशरीरकोहीहोताहै।भगवानकृष्णनेकहाकर्मपरध्यानदो,फलमुझपरछोड़ो।वसुधैवकुटुंबकम्केभावअन्यकिसीभीदेशमेंनहींहै।

धर्मकीहानिहोनेपरभगवानअवतारलेतेहैं

धर्मरक्षार्थभगवानआतेहैं।धर्मकीहानिहोनेपरभगवानअवतारलेतेहैं।भारतीयसंविधानमेंभीभगवानरामसीताकेचित्रअंकितहै।ऐसेमेंरामकृष्णकेखिलाफअश्लीलटिप्पणीमाफीयोग्यनहींहै।हिन्दुओंमेंहीनहींमुसलमानोंमेंभीकृष्णभक्तरहेहैं।रसखान,अमीरखुसरो,आलमशेख,वाजिदअलीशाहनज़ीरअकबराबादी,रामकृष्णभक्तरहेहैं।रामकृष्णकाअपमानपूरेदेशकाअपमानहै।

By Douglas