अमितगोयल,मंडीआदमपुर:देशभरमेंकोरोनासेजंगजारीहै।सरकारीइंतजामनाकेबराबरहैं।प्राणवायुकेलिएमरीजोंकेपरिजनदर-दरभटकरहेहैं।जिलेकेअस्पतालहाउसफुलहोगएहैं,लेकिनहौसलेनेअभीहिम्मतनहींहारीहै।आदमपुरकेयुवाऔरव्यापारीलगातारआक्सीजनकेलिएक्षेत्रमेंलगातारप्रयासकररहेहैं।ऐसेयुवाऔरव्यापारियोंनेलॉकडाउनकेदौरानअपनीदुकानबंदकरइंटरनेटमीडियापरमुहिमचलाकरलोगोंकेसहयोगसेलाखोंरुपयेजुटाकरसातआक्सीजनकंसंट्रेटरखरीदेंहैं,ताकिआक्सीजनकीकमीसेकिसीकीमौतनहो।आदमपुरकेकुछयुवा,व्यापारियोंवकिसानोंनेशनिसेवादलवनिहारोएग्रोप्रोडयूसरग्रुपबनायाहुआहै।कोरोनाकाप्रकोपपुन:फैलातोसंस्थानेइसबारभीमददमेंकोईकसरनहींछोड़ी।आक्सीजनकीडिमांडज्यादाहै,इसलिएसिलेंडरसेपूर्तिहोपानामुश्किललगनेलगा,तोसंस्थाओंकेप्रमुखसदस्यप्रवीणगोयलवसुमितजाजूदाकेनेतृत्वमेंयहनिर्णयलियागयाकिसभीमिलकरअधिकतमआक्सीजनकंसंट्रेटरखरीदेंगे।ताकिआक्सीजनकीआपूर्तिमेंसहयोगकियाजासके।सोशलमीडियापरखुदप्रवीणगोयलने11हजाररुपयेकासहयोगशुरूकियातोएककेबादएकदानदाताभीआगेआगए।प्रवीणगोयलबतातेहैंकि11हजारसेहुईशुरुआतमेंकाफीलोगबड़ासहयोगभीकरनेकेलिएआगेआएहैं।शुरुआतीस्तरपरसातआक्सीजनकंसंट्रेटरमंगानेकेलिएऑर्डरकरदियाहैं।उनकालक्ष्यज्यादासेज्यादाआक्सीजनकंसंट्रेटरमंगानेकाहै।इससप्ताहकेअंततकसहयोगसेहमकाफीकंसंट्रेटरखरीदनेकीस्थितिमेंहोंगे।उन्होंनेअन्यसमाजसेवीवधार्मिकसंस्थाओंसेभीऐसीमुहिमचलानेकीअपीलकीहै।