संवादसूत्र,वजीरगंज:यदिआपपुस्तकप्रेमीहै,दुनियाकीदुर्लभपुस्तकोंकीतलाशमेंहैंऔरस्वाध्यायकरकेदुनियाकेइतिहास,भूगोल,संस्कृतिकोजाननाचाहतेहैंतोआइएवजीरगंजकेश्रीरामानुग्रहउच्चतरमाध्यमिकविद्यालयमेंसंचालितभव्यपुस्तकालय।यहांआपकोअपनेदेशसहितविश्वकेअन्यबड़ेदेशयथाअमेरिका,चीन,जापान,रूस,ब्रिटेनऔरफ्रांसकेसंविधानभीमिलेंगे।

यदिग्रामीणक्षेत्रमेंरहकरप्रतिष्ठितप्रतियोगीपरीक्षाओंबीपीएससी,यूपीएससीएवंअन्यकीतैयारीकरनाचाहतेहैंऔरपुस्तकोंकेअभावमेंअपनाराहभटकरहेहैं,तोभीइसपुस्तकालयकाशरणलीजिए,यहांसबकुछउपलब्धहै।यहपुस्तकोंकीएकऐसीदुनियाहैजहांपहुंचतेहीखुलजाएंगेआपकेसभीबंददरवाजोंकेताले।विद्यालयमेंनामांकितसभीविद्यार्थीइसकाभरपूरलाभउठारहेहैं।

विद्यालयकेप्रधानाध्यापकअशोककुमारसिंहकेनिर्देशनमेंयहांकेपुस्तकालयअध्यक्षअजयकुमारसुचारूरूपसेइसकासंचालनएवंरखरखावकररहेहैं।पुस्तकालयबहुतहीसुसज्जित,साफ-सुथरारहताहैजहांप्रवेशकरतेहीमनस्वाध्यायकीओरखुदहीखिंचाचलाजाताहै।इसकीस्थापनाकेंद्रीयविशेषसहायतायोजनाकेतहतवित्तीयवर्ष2019-20मेंकीगईहै।तबसेयहनिरंतरपुस्तकप्रेमियोंकीसेवामेंअग्रसरहै।पुस्तकालयअध्यक्षअजयकुमारबतातेहैंकिफिलहालयहांसबमिलाकर3156पुस्तकेंउपलब्धहैं।

इनमेंकक्षानवमीसेबारहवींतककेसभीपाठ्यपुस्तकतोहैही,साथमेंसभीतरहकेप्रतियोगीपुस्तकें,महापुरुषोंकीजीवनी,हिंदीसाहित्य,विभिन्नदेशोंकेसंविधान,खेलकूदनियमावली,विभिन्नभाषाओंकेव्याकरण,सहितअन्यपुस्तकेंउपलब्धहै।धार्मिकजानकारीकेलिएरामायणऔरगीतातोहैहीकुरान,बाइबल,बालहनुमान,बालकृष्ण,बालगणेश,हिंदूधर्मकीवैज्ञानिकमान्यताएंसहितडॉएपीजेअब्दुलकलाम,संतकबीर,डॉआंबेडकर,पंडितजवाहरलालनेहरूएवंअन्यमहापुरुषोंकेप्रेरणादायककहानियोंकीकिताबेंभीमिलतीहै,जिससेपाठकअपनेजीवनकोनईनईराहदेतेहैं।

स्वामीविवेकानंदद्वारालिखितभक्तियोग,ज्ञानयोगऔरराजयोगकेसाथ-साथमुंशीप्रेमचंदकेगोदान,सेवासदन,रंगभूमिमहात्मागांधीकेग्रामस्वराज,हिंदस्वराजएवंसरदारपटेल,गुरुरवींद्रनाथटैगोर,मैथिलीशरणगुप्तजैसेमहानहस्तियोंद्वारालिखितदर्जनोंपुस्तकेंशामिलहैं।विद्यालयमेंनामांकितबच्चेअपनीकक्षाकीपाठ्यपुस्तकोंकातोयहांबैठकरस्वाध्यायकरतेहैंयाफिरआवश्यकतापड़नेपर15दिनोंकेलिएघरभीलेजातेहैं।

इसकेलिएसभीविद्यार्थियोंकोएकविशेषपरिचयपत्रनिर्गतकियागयाहैतथापुस्तकवितरणपंजीमेंइसकासंधारणभीकियाजाताहै।जोभीविद्यार्थीपुस्तकलेजातेहैंउन्हेंनियमानुसारपंद्रहवेंदिननिश्चितरूपसेवापसकरनाहोताहै।यदिउन्हेंऔरअधिकदिनोंकेलिएआवश्यकतापड़ेतोफिरसेपंद्रहदिनोंकेलिएप्राप्तकरसकतेहैं।पुस्तकालयअध्यक्षकेअनुसारप्रतिदिन15से20विद्यार्थीपुस्तकोंकाआदानप्रदानकरतेहैं।

कक्षामेंएकसाथदोदर्जनविद्यार्थियोंकोबैठकरस्वाध्यायकरनेकीभीसुविधाहै।इसकेलिएवर्गवारक्रमांककेअनुसाररोस्टरबनायागयाहै,जिसकेआधारपरबच्चेयहांबैठकरभीकिताबेंपढ़तेहैं।

By Doyle