-हालशाहपुरगांवकेवार्डनंबर6और7का

-कटायरधारमेंएकपुलनहींहोनेसेमुश्किलमेंफंसीहैबच्चोंकीपढ़ाई

संवादसूत्र,सरायगढ़(सुपौल):सरकारजहांहरगांवऔरमुहल्लेकोमुख्यसड़कसेजोड़करलोगोंकेलिएहरसंभवसहायताउपलब्धकरानेकादावाकररहीहै।वहींसरायगढ़-भपटियाहीप्रखंडकेशाहपुरपृथ्वीपट्टीकेवार्डनंबर6और7केकरीब350बच्चेप्रतिदिनजिदगीऔरमौतसेखेलकरविद्यालयजातेआतेहैं।इसगांवमेंहाजीगुलमु.प्राथमिकविद्यालयमुस्लिमटोलापृथ्वीपट्टीऔरमदरसाकश्मीरशाहपुरपृथ्वीपट्टीदोविद्यालयकटायरधारकेकिनारेअवस्थितहै।इनदोनोंविद्यालयोंमेंछात्र-छात्राओंकीसंख्या350सेअधिकहैजोमुस्लिमतथाअनुसूचितजातिवजनजातिवर्गकेहैं।विद्यालयकेशिक्षकलंबेसमयसेइनबच्चोंकोकभीपानीमेंसीधेरूपसेतोकभीचचरीपरखड़ेहोकरपारकरातेहैं।तबयहबच्चेस्कूलआतेऔरजातेहैं।सुपौलजिलेमेंसरकारीस्कूलजानेवालेछात्र-छात्राओंकाशायदहीकहींऐसाहालहोताहो।कहतेहैंकिजबतकबच्चेचचरीनहींपारकरजातेतबतकशिक्षकोंमेंबेचैनीबढ़ीरहतीहै।चचरीकेबगलखड़ेहोकरलंबीसांसलेरहेशिक्षकएक-एकबच्चेकोइसकिनारेसेउसकिनारेतकपहुंचानेकाकामप्रतिदिनकियाकरतेहैं।ऐसेमेंयदिकिसीदिनसंयोगसेकोईबच्चाचचरीसेफिसलजाताहैतबअफरा-तफरीकामाहौलबनजाताहै।मदरसाकासमियाकेशिक्षकप्रधानअब्दुलजलील,सहायकशिक्षकअताउर्रहमान,मंजूरआलम,मु.अयूब,शम्सतबरेज,मु.सुबेशआलमतथाप्राथमिकविद्यालयहाजीगुलमु.मुस्लिमटोलाकेप्रधानमु.यूसुफ,सहायकअबुलआस,शमशादआलमतथाशिक्षिकाबबलीकुमारीनेबतायाकिवहसभीप्रतिदिनसवेरेविद्यालयकेबदलेचचरीकेपासपहुंचतेहैं।विद्यालयकेशिक्षकतथाशिक्षिकाओंनेबतायाकिजबतकएकएकबच्चेचचरीपारनहींकरलेतेतबतकवहसभीवहींखड़ेरहतेहैं।इसीतरहजबविद्यालयमेंछुट्टीहोतीहैतोफिरवहसभीचचरीकिनारेखड़ेहोजातेहैंऔरएकएकबच्चेकोचचरीपारकरानेकेबादहीअपने-अपनेघरोंकोजातेहैं।शिक्षकोंनेबतायाकिछोटे-छोटेबच्चोंकोहाथपकड़करचचरीपारकरनापड़ताहै।क्योंकिथोड़ीसीचूकबड़ीपरेशानीकाकारणबनसकताहै।शिक्षकोंनेबतायाकिकटायरनदीमेंपुलकीमांगवहसभीलंबेसमयसेकरतेरहेहैं।पिछलेवर्षभीविद्यालयकेछात्र-छात्राओंनेइसकोलेकरकाफीविरोधप्रदर्शनकियाथा।लेकिनकोईनतीजानहींनिकलाऔरगांवकेबच्चेजानहथेलीमेंरखकरविद्यालयआनेजानेकोविवशबनेहैं।

शाहपुरकेअभिभावकोंमेंमु.खलील,मु.रुखसारआलम,गुलमु.,मु.इसराइल,मु.कुर्बान,तसलीम,परवेजआलम,लालमुहम्मद,लुकमान,रसूल,अबुल,इदरीश,मकसूदआदिनेबतायाकिकटायरनदीमेंपुलकानहींहोनाबच्चोंकोप्राथमिकशिक्षाकेमौलिकअधिकारसेरोकनेजैसाहै।अभिभावकोंनेबतायाकिवैसेभीइसधारमेंपुलकीमांगकोलेकरबार-बारक्षेत्रकेनेताओंतथाजनप्रतिनिधियोंतकजातेरहेहैंसभीकेद्वाराआश्वासनतोमिलाहैलेकिनस्थलपरकोईकामनहींहोसकाहै।अभिभावकोंनेबतायाकियहउनसबोंकेसाथनाइंसाफीहै।

इनदोनोंविद्यालयकेकईबच्चोंसेपूछनेपरबतायाकिशिक्षकोंऔरअभिभावकोंकेदबावमेंउनसबोंकोनियमितरूपसेविद्यालयआनेकीबेबसीहै।बच्चोंनेबतायाकिजबवहसभीचचरीपरचढ़तेहैंतोकाफीडरलगताहै।कईबच्चोंकाकहनाथाकिनदीपरबनीचचरीकभीजानलेवाभीहोसकतीहै।इसआशंकासेकभी-कभीवेसब4से5किलोमीटरकीदूरीतयकरअपनेविद्यालयोंमेंजातेहैं।

By Duncan