नईदिल्ली, जागरणसंवाददाता।ईस्टर्नऔरवेस्टर्नपेरिफेरलएक्सप्रेस-वेसेदिल्लीमेंव्यावसायिकवाहनोंकेप्रवेशकमहोनेसेटोलवसूलनेवालीकंपनीने450करोड़रुपयेकीछूटमांगीहै।कंपनीनेकहाकिदिल्लीमेंवाहनोंकाप्रवेशकमहोगयाहै,इसकासीधाअसरटोलवसूलीसेहोनेवालीउनकीआयपरहुआहै।इसलिएनिगमद्वाराछूटदीजानीचाहिए।हालांकि,दक्षिणीदिल्लीनगरनिगमकीस्थायीसमितिनेपिछलीबैठकमेंइसप्रस्तावकोभीटालदियाहै,लेकिननिगमइसप्रस्तावकोनहींमानेगातोटोलवसूलनेवालीकंपनीइसकार्यसेहाथखड़ेकरसकतीहै।

प्रस्तावमेंकंपनीनेदावाकियाहैकिफ्रीलेनसेदिल्लीमें35हजारवाहनप्रतिदिनप्रवेशकररहेहैं,वहींईस्टर्नऔरवेस्टर्नपेरिफेरल-वेकीवजहसेदिल्लीमेंप्रतिमाह90हजारवाहनोंकाप्रवेशकमहोगयाहै।निगमने1206करोड़रुपयेकेवार्षिकशुल्कपरदिल्लीमेंटोलवसूलीकाकार्यएकनिजीकंपनीकोदेरखाहै।

निगमकागड़बड़ाएगाबजट

दिल्लीमेंटोलवसूलीसेनिगमोंको1206करोड़रुपयेकीआयहोतीहै।अगर,ऐसेमेंटोलवसूलनेवालीकंपनीकार्यछोड़देतीहैतोनिगमकोआर्थिकनुकसानहोसकताहै।जिसकाअसरनिगमोंकेबजटपरपड़सकताहै।तीनोंनिगमइससमयखराबआर्थिकहालातोंकासामनाकररहेहैं।

By Edwards