ऊना,सुरेशबसन।प्रधानमंत्रीनरेन्द्रमोदीने'मनकीबात'कार्यक्रममेंऊनाकेजगतारउर्फजयचौधरीकेसमाजसेवाकेक्षेत्रमेंकिएकार्योंकीसराहनाकीहै।पीएमनेजयचौधरीकीओरसेहालमेंहीआइआइटी(बीएचयू)फाउंडेशनकोएकमिलियनयूएसडालर(लगभग7.5करोड़रुपये)दानदेनेकीप्रशंसाकी।प्रधानमंत्रीनेकहाकिबेहदखुशीकीबातहैऔरऐसेप्रयासउच्चशिक्षाक्षेत्रमेंप्रेरकउदाहरणबनतेहैं।ऐसेउदाहरणोंकीदेशमेंकोईकमीनहींहै।मूलरूपसेजिलाऊनाकेपनोहगांवकेरहनेवालेजयक्लाउडबेस्डइन्फार्मेशनसिक्योरिटीफर्मजीस्कैलरकेसंस्थापकऔरसीईओहैं।

जयआइआइटी(बीएचयू)केइलेक्ट्रानिक्सइंजीनियरिंगके1980बैचकेछात्ररहेहैं।पीएमकेकार्यक्रममेंजयचौधरीकाजिक्रहोनेपरऊनामेंरहरहेउनकेबड़ेभाईदलजीतसिंहवस्वजनकीखुशीकाकोईठिकानानहींहै।दलजीतनेकहाकियहहर्षकाविषयहैकिप्रधानमंत्रीनेजयकेकार्योंसेप्रभावितहोकरउनकीसराहनाकी।देशकेविकासमेंअंशदानकेलिएजयकानामजुड़ाहै।जयचौधरीभीकहचुकेहैंकिआइआइटी(बीएचयू)कीशिक्षानेमुझेव्यवसायकीदुनियाकेलिएतैयारकरनेमेंमहत्वपूर्णभूमिकानिभाईहै।

छात्रोंकेलिएविकसितहोगाबड़ाप्लेटफार्म

काशीहिंदूविश्वविद्यालयकेछात्ररहेजयचौधरीनेसाढ़ेसातकरोड़कीराशिबीएचयूकेआइटीविभागकोदीहै।इसराशिसेसंस्थानमेंएकसाफ्टवेयरइनोवेशनसेंटरस्थापितहोगा।यहऐसामंचहोगा,जहांछात्रसाफ्टवेयरविकास,क्वांटमकंप्यूटिंग,साइबरसुरक्षा,आइओटीऔरडेटाएनालिटिक्सकेक्षेत्रमेंसीखनेऔरनवाचारकरनेमेंसक्षमहोंगे।आइआइटी(बीएचयू)औरसंस्थानकेहीछात्रदीपजरीवाला(एमईटी10)केसहयोगसेएकसंकायसदस्यकाचयनकियाजाएगा,जोजयचौधरीप्रोफेसरआफसाफ्टवेयरइनोवेशनसेंटरकाप्रबंधनसंभालेगा।प्रोफेसरशिपऔरइनोवेशनसेंटरकेअलावाजयचौधरीकीओरसेदीगईराशिसेसाफ्टवेयरनवाचारपरव्याख्यानशृंखलाऔरएकसाफ्टवेयरप्रौद्योगिकीबीजकोषभीगठितहोगा।

अरबपतियोंकीसूचीमेंशामिलहैंजय

जयचौधरीरोजाना153करोड़रुपयेकीकमाईकररहेहैैैं।हुरुनइंडियारिचलिस्टमेंउनकानामदुनियाकेशीर्षअरबपतियोंमेंहै।अमेरिकामेंबसे63वर्षीयजयचौधरीकीसाइबरसिक्योरिटीफर्मजीस्कैलरमें42फीसदहिस्सेदारीहै।अमेरिका,जापानसहितकईदेशोंमेंइसकंपनीकेकार्यालयहैं।भारतमेंचंडीगढ़,दिल्लीवबेंगलुरुजैसेमहानगरोंमेंकंपनीकेकार्यालयहैं।जय1,21,600करोड़कीसंपत्तिकेमालिकहैं।उन्होंनेवर्ष202-21केदौरानकोरोनाकालमेंभारतसरकारको22करोड़रुपयेकीमदददीथी।

कभीनंगेपांवजातेथेपढ़ाईकरने

जयचौधरीनेसंघर्षकेबूतेफर्शसेअर्शतककासफरतयकियाहै।उनकेपिताभगतङ्क्षसहकिसानथे।उनदिनोंहालातऐसेथेकिघरमेेंबिजलीकेबिनाभीजयचौधरीनेसमयव्यतीतकिया।परिवारमेंतीनभाईथे।जयकेपिताभगतसिंह,मातासुरजीतकौरऔरभाईप्यारासिंहउनकेसाथरहरहेहैं।जय10वींकक्षाकीपढ़ाईकेलिएनजदीकीगांवधुसाड़ामेंचारकिलोमीटरदूरनंगेपांवजातेथे।