नईदिल्ली,सीमाझा। किसीगांवमेंएकसंतरहतेथे।रोजानादीन-दुखियोंकेघरजाते।उनकेदुखकोसुनतेऔरउन्हेंहल्काकरनेकाप्रयासकरते।धीरे-धीरेउनकीलोकप्रियताबढ़नेलगी।यहबातगांवकेकुछलोगोंकोअखरगई।उन्होंनेसंतकाअपमानकरनाशुरूकरदिया।उनकीनिंदाऔरउपहासकरनेलगे।संतइससेआहतहोगए।उन्होंनेगांवछोड़नेकाफैसलाकरलिया।परउनकास्वभावपहलेकीतरहहीरहा।

हां,उनकेजानेकेबादगांवकेलोगउन्हेंबहुतयादकरनेलगे।गांववालोंकोऐसालगा,जैसेकिकोईबहुतअजीजखोगयाहो।इनमेंवेलोगभीथे,जिन्होंनेसंतकोवहांसेजानेपरमजबूरकियाथा।वेसंतकोवापसतोनहींबुलासकतेथे,लेकिनउन्होंनेमहसूसकियाकिउनकेभीतरबदलावहोरहाहै।वेसंतकीतरहहीसंवेदनशीलहोरहेहैं।संतकोजबयहबातपताचलीतोवेबेहदप्रसन्नहुए।लोगोंकेमनमेंसमानुभूतिकोलेकरउनकीआस्थाऔरदृढ़होगयी।

समानुभूतिऔरसहानुभूतिमेंहैअंतर

समानुभूतिऔरसहानुभूतिदोअलगशब्दहैं।अक्सरलोगइनमेंभिन्नतानहींकरपाते।सहानुभूतियानीकिसीभीप्रकारकेदुखमेंकिसीकेसाथखड़ेहोना।परकुछलोगोंकोआपपातेहैंकिवेआपकेचश्मेसेआपकेएहसासकोदेखसकतेहैं।आपकीपीड़ाकोआपकेजूतेमेंपैरडालकरसमझतेहैं।वेयहमहसूसकरपातेहैंकिवहजूताआपकोकिसतरहकादर्ददेरहाहै।

वेकेवलआंसूबहानेयादुखव्यक्तकरनेकेबजायकुछसार्थकप्रयासकरतेहैं।विशेषज्ञोंकेअनुसार,यहभावनात्मकसमानुभूतिहै।इससेसामनेवालेकोमहसूसहोताहैकिवहअकेलानहींहै।ऐसेसमयमें,जबपरिवारऔरसमाजमेंटकराव,हिंसा,मनोरोगबढ़रहेहैं,वहांसमानुभूतिकाविकासजरूरीलगताहै।यहएकऔषधिकीतरहहै,जोआपकोमानसिकउत्कृष्टताकेशिखरपरबैठासकतीहै।

रिश्तोंकीमजबूतीकेलिए

एकस्नेहिलस्पर्श,सहजमुस्कान,करुणाभरेशब्द,एकअच्छासुननेवालाकान,ईमानदारप्रशंसायाकोईछोटी-सीपरवाह।संभवहैइन्हेंआपसफलजिंदगीकेलिएबहुतछोटीचीजमानें,परवास्तवमेंयहबड़ाअसरपैदाकरसकतीहैं।रिश्तोंकेलिएचाहेवेआपकेनिजीहोंयाकामकाजी,दोनोंकीमजबूतीकेलिएयहएकमजबूतहथियारहै।वास्तवमेंसमानुभूतिकाअभ्यासआपकोतोस्वस्थबनाताहीहै,दूसरोंकोभीआगेबढ़नेकाअवसरदेताहै।

मित्रताकीशुरुआतभीइसीविश्वासकेसाथहोतीहैकिकोईव्यक्तिहमारीभावनाओं-विचारोंकामूल्यांकनकिएबिनाहीउन्हेंबांट-समझसकेगा।आध्यात्मिकगुरुयामनोविश्लेषकोंकीसफलताकाराजभीयहीहैकिसाधकअथवाबीमारइंसानकोयहपूराविश्वासहोजाताहैकिउसकागुरुयामनोविश्लेषकउसेपूरीतरहसमझताहै।इसलिएउसकेसामनेदिलखोलाजासकताहै।यदिसामाजिकजीवनमेंटकरावहै,तोसमानुभूतिपूर्णबातचीतरंगलासकतीहै।टकरावअधिकबढ़जाएतोउससमयसफलताकीसंभावनाअधिकहोतीहै,जबदोनोंपक्षएक-दूसरेकेदृष्टिकोणकोसमझतेहोंऔरसंवेदनशीलभीहों।

इंसानकामूलस्वभाव

अमेरिकीमनोविज्ञानीकार्लरोजरनेएकथेरेपीविकसितकी।इसे‘व्यक्तिकेंद्रितथेरेपी’कहाजाताहै।इसमेंमरीजकोकिसीतरहसेनिर्देशितनहींकियाजाता,बल्किउसेस्वविकासकेलिएप्रेरितकियाजाताहै।इसथेरेपीकेलिएकार्लरोजरसमानुभूतिकोमहत्वपूर्णमानतेहैं।सबसेसुंदरबातयहहैकिसमानुभूतिहरइंसानकामूलस्वभावहै।यदियहकिसीकेअंदरनहींहैतोऐसाकुछबाहरीबाधाओंकेकारणहोसकताहै।

इसलिएमनोविश्लेषककाकामहैकिवहऐसेमालीकीतरहबनें,जोमनसेखरपतवारहटासकताहोऔरउचितखाद-पानीडालकरव्यक्तिकोएकबेहतरइंसानबननेमेंमददकरसकताहो।कोईअवसादमेंहैतोअच्छामनोचिकित्सकभीयहनहींसोचताकिवहबीमारीकेकारणअंसतुलितव्यवहारकररहाहै,बल्किवहखुदउसकेदुखकेकारणोंकीतहमेंजाताहै।

यहएककौशलहै,जिसेसीखाजासकताहै

कैंब्रिजयूनिवर्सिटीकेजाने-मानेमनोविज्ञानीप्रोफेसरसिमोनबोरेनकॉहनसमानुभूतिकोअन्यकौशलोंकीतरहहीएककौशलमानतेहैं।उनकेमुताबिक,यदिआपअभ्यासकरेंतोआपइसगुणमेंबेहतरहोसकतेहैं।इसकौशलको‘थ्योरीऑफमाइंड’कहाजाताहै।यहसहीहैकिआत्मसजगताकोबढ़ाकरआपसमानुभूतिकाविकासकरसकतेहै।

परकैसेकरेंआत्मसजगताकाविकास?क्याहमखुदकोपूरीतरहजानसकतेहैं?दरअसल,यहएककठिनसवालहै।हमसबइतनेजटिलरूपसेबनेहुएहैंकियहअसंभवहैकिपूरीतरहखुदकोजानलें।इसकेबावजूदयहतयहैकिनिरंतरखुदकेप्रतिसजगताहमारेभीतरसकारात्मकबदलावपैदाकरसकतीहै।

आत्मसजगताऔरसमानुभूति

आत्मसजगताऔरसमानुभूतिदोऐसेस्तंभहैं,जोआपकीभावनात्मकबुद्धिकोसंवारतेहैं।जबआपखुदकेप्रतिसतर्कहोतेहैंतोऔरोंकेप्रतिभीसजगहोजातेहैं।समझपातेहैंकिहमजैसासोचतेहैं,वैसेहीदूसरेलोगनहींहोसकते।समानुभूतिकोलेकरहालमें‘जर्नलऑफकॉग्निटिवएनहेंसमेंट’मेंएकशोधप्रकाशितहुआथा।तीनमाहतक20से50वर्षकीउम्रकेबीचकेलोगोंपरयहशोधकियागया।

परिणाममेंपायागयाकिखुदकेप्रतिसजगतावसमानुभूतिएकदूसरेसेजुड़ेहैं।यदिआपआत्मसजगताकाअभ्यासकरेंगे,तभीसमङोंगेकिसमानुभूतिपूर्णहोनाजरूरीहै।उदाहरणकेलिए,हमजानतेहैंकिहमअंतमरुखीहैं,परहमयहभीजानेंकिसबअंतमरुखीनहीं।इसलिएबहिमरुखीस्वभावकेव्यक्तियोंकीसोचवव्यवहारकामूल्यांकनयाउसपरआश्चर्यनहींकरनाचाहिए।

(डॉ.राकेशपांडेय, पूर्वअध्यक्ष,मनोविज्ञानविभाग,बीएचयू,वाराणसी)

Coronavirus:निश्चिंतरहेंपूरीतरहसुरक्षितहैआपकाअखबार,पढ़ें-विशेषज्ञोंकीरायवदेखें-वीडियो

By Ellis