नयीदिल्ली,12मार्च(भाषा)प्रधानमंत्रीनरेंद्रमोदीनेमंगलवारकोदांडीयात्राकीवर्षगांठपरकांग्रेसकोनिशानेपरलेतेहुएआरोपलगायाकिगांधीवादीविचारोंकाविरोधविपक्षीदलकीसंस्कृतिहै।दांडीयात्राकी89वींवर्षगांठपरएकब्लॉगमेंउन्होंनेकहाकिमहात्मागांधी“हमेंसबसेगरीबशख्सकेदर्दकेबारेमेंसोचनासिखाया”और“हमनेंदेखाऔरसोचाकिकिकैसेहमाराकामउसशख्सकोप्रभावितकरेगा।”मोदीनेकहा,“मैंगर्वकेसाथयहकहसकताहूंकिहमारीसरकारकेकामकेसभीपहलुओंमेंनिर्देशकविचारयहहोताहैकिहमदेखेंकिकैसेयहगरीबीदूरकरेगाऔरसमृद्धतालाएगा।”प्रधानमंत्रीनेआरोपलगायाकिगांधीजहांअसमानताऔरजातीयविभाजनमेंविश्वासनहींरखतेथे,“दुखदहैकिकांग्रेससमाजकोबांटनेसेकभीनहींहिचकिचाई।”उन्होंनेब्लॉगमेंआरोपलगाया,“सबसेबुरीजातीयहिंसाऔरदलितविरोधीनरसंहारकांग्रेसकेशासनमेंहुआ।”कांग्रेसऔरभ्रष्टाचारके“पर्यायवाची”बननेकाआरोपलगातेहुएमोदीनेकहाकिउनकीसरकारनेभ्रष्टोंकोदंडितकरनेकेलियेसबकुछकिया।उन्होंनेआरोपवलगाया,“देशनेदेखाहैकिकैसेकांग्रेसऔरभ्रष्टाचारपर्यायवाचीबनगए।जिसक्षेत्रकाभीनामलीजिएवहांएककांग्रेसीघोटालाहोगा-फिरचाहेवहरक्षा,टेलीकॉम,सिंचाई,खेलआयोजन,कृषि,ग्रामीणविकासयाकुछऔरहीक्योंनहो।”मोदीनेयहभीदावाकियाकि‘बापू’(महात्मागांधी)वंशवादकीराजनीतिकोतुच्छमानतेथे,वहीं“वंशपहले”आजकांग्रेसकातरीकाबनगयाहै।लोगोंकेअधिकारकेमुद्देपरविपक्षपरनिशानासाधतेहुएउन्होंनेकहाकिगांधीमानतेथेकिलोकतंत्रकमजोरकोमजबूतजितनेहीसमानअवसरदेतेहैं,लेकिनकांग्रेसने“राष्ट्रकोआपातकालदिया।”प्रधानमंत्रीनेकहा,“गांधीजीकांग्रेसकीसंस्कृतिकोभलीभांतिजानतेथे,यहीवजहहैकिवहकांग्रेसकोभंगकरनाचाहतेथे,खासकर1947केबाद।”उन्होंनेकहा,“आजहमारेपासकेंद्रमेंसरकारहैजोबापूकेदिखायेपथपरकामकररहीहै।”

By Edwards