नईदिल्ली(भगवानझा)।देशकीबड़ीजेलोंमेंशुमारतिहाड़कीदीवारोंपरचित्रकारीकेमाध्यमसेसमाजमेंएकसंदेशदेनेकीकोशिशकीजारहीहै।जेलसंख्याचारकीदीवारसेइसकीशुरुआतकीगईहै।बाहरसेदेखनेपरजेलकीदीवारएककिलानजरआतीहै,लेकिनअंदरजानेपरइसीदीवारपरइसकादूसरापहलूनजरआताहै।

कैदियोंकेलिएलगताहैचित्रकारीस्कूल

यहांदीवारपरउकेरेगएचित्रप्रेम,शांति,सद्भावकेसंदेशदेतेनजरआतेहैं।शुरुआतकेकरीब200मीटरहिस्सेपरइसतरहकीचित्रकारीकीगईहै।दीवारपरचित्रकारीकाकार्यतिहाड़स्कूलऑफआर्टकेकलाकारोंनेकियाहै।इसमेंकॉलेजकेदोछात्रसूर्यांशवआकाशनेकैदियोंकासाथदिया।जेलसंख्याचारमेंस्थितइसस्कूलमेंकैदियोंकोचित्रकारीवअन्यकलाओंकाप्रशिक्षणदियाजाताहै।

मकसदकलासेकैदियोंकोसकारात्मकसंदेशदेनाहै

कैदियोंनेकरीबदोसप्ताहमेंदीवारोंपरचित्रोंकोउकेराहै।येचित्रअभीजेलसंख्याचारकीड्योढ़ीकेसामनेवसटेहिस्सेपरबनाएगएहैं।इसकार्यकोदोचरणोंमेंपूराकियागयाहै।जेलसंख्याचारकेअधीक्षकराजेशचौहानबतातेहैंकिजेलमहानिदेशकअजयकश्यपवअतिरिक्तमहानिरीक्षकराजकुमारहमेशाहमलोगोंकोकैदियोंमेंसुधारसेजुड़ेकार्यकेलिएप्रेरितकरतेरहतेहैं।आजजेलमेंसुधारसेजुड़ेकईकार्यहोरहेहैं।इसकार्यकीहीबातकरेंतो,यहांभीहमारामकसदकलाकेमाध्यमसेकैदियोंकेबीचएकसकारात्मकसंदेशदेनाहै।

जेलसेनिकलेचित्रकार,मूर्तिकारऔरसंगीतकार

जेलअधीक्षकराजेशचौहानबतातेहैंबाहरकेचित्रहमेंयहबतातेहैंकिजेलएककिलाहै,जिसकीदीवारेंबेहदसख्तऔरमजबूतहैं।इसकिलेकोपारकरनाआसाननहींहै,लेकिनएकबारजबकैदीइसकिलेनुमाजेलमेंआजातेहैंतोऐसानहींहैकिउम्मीदोंकीदुनियादमतोड़देतीहै।अंदरकेहिस्सेमेंहमलोगोंनेताजमहलकाचित्रदीवारोंपरउकेराहै।

अंदरगांधीवबुद्धकीमूर्तियांवइनकेचित्रहमेंसमाजमेंशांतिवसद्भावकेसाथजीनेकासंदेशदेतेहैं।यानीएकबारजबआपइसकिलेमेंआगएतोकोशिशकीजिएकिजिंदगीमेंदोबारागलतीनहो।हमारीकोशिशहोतीहैकिजेलसेनिकलनेकेबादयहांकोईदोबारानआए।वहसमाजमेंफिरसेसम्मानहासिलकरे।यहांसेनिकलकरकईलोगचित्रकार,मूर्तिकार,संगीतकारबनेहैं।समाजनेपहलेकीतरहहीइन्हेंपूरेउत्साहकेसाथस्वीकाराहै।

By Elliott