मोहम्मदहारून,हथीन

बिनाखेलप्रशिक्षकोंकेसरकारीस्कूलोंमेंकैसेतोखेलप्रतिभाएंनिखरेंवकैसेसाक्षीवसंधूतैयारहो।हथीनकेराजकीयकन्यावरिष्ठमाध्यमिकविद्यालयमेंछटीसेबारहवींकक्षातकचारसौछात्राओंकीखेलकीहसरतअभीभीअधूरीहै।लगातार15वर्षोंसेइसस्कूलमेंकोईखेलप्रशिक्षकनियुक्तनहींकियागया।इसीकारणस्कूलकीछात्राएंआजतककोईखेलनहींखेलसकीहैं।इतनाहीनहींस्कूलमेंपर्याप्तखेलकेमैदानकीभीव्यवस्थानहीं।

ओलंपिकगेमोंमेंसाक्षीवसंधूनेहीपदकजीतकरदेशकीलाजरखीथी।वहींदूसरीतरफलड़कियोंकेखेलोंपरशिक्षाविभागकाकोईध्याननहीं।इसकाजीताजागताउदाहरणहैहथीनकाराजकीयकन्यावरिष्ठमाध्यमिकविद्यालय।जहांपरछटीसेबारहवींकक्षातकलगभग400लड़कियोंशिक्षाग्रहणकरतीहैं।यहस्कूल15वर्षोंसेखेलप्रशिक्षकोंकेलिएजूझरहाहै।नियमानुसारस्कूलमेंडीपीवपीटीकीव्यवस्थाहोनीचाहिए,जोछात्राओंकोखेलकाप्रशिक्षणदेसकें।यहनहींकीछात्राएंखेलकेप्रतिसजगनहीं,बल्किछात्राएंचाहतीहैंकिकिपढ़ाईकेसाथ-साथखेलोंमेंभीअपनीकिस्मतआजमाएं।लेकिनदुर्भाग्यकीबातयहहैकिशहरवआसपासकीगांवोंसेशिक्षाग्रहणकरनेआनेवालीछात्राएंखेलसेमहरूमहैं।स्कूलमेंखेलकेमैदानकेलिएजगहकाअभावभीहै।जिनमेंबड़ेमैचकराएजासकें।हालहीमेंखंडस्तरकीस्कूलीखेलकूदप्रतियोगिताओंमेंक्षेत्रकेकईस्कूलोंकीछात्राओंनेजौहरदिखाएथे,लेकिनइसस्कूलकीतरफसेखंडस्तरकीप्रतियोगितामेंकोईहिस्सेदारीनहींथी।अभिभावककाकहनाहैकिशिक्षाविभागकोयहांपरखेलप्रशिक्षककीतैनातीकरनीचाहिए,ताकिखेलकेप्रतिसमर्पितछात्राएंअपनीरुचिपूरीकरसकें।

इसस्कूलकीव्यवस्थारामभरोसेहै।पढ़ाईवखेलदोनोंशून्यहै।सरकारध्यानदें।

शिक्षकोंवखेलप्रशिक्षकोंकीकमीकेबारेमेंकईबारगुहारलगाईहै।लेकिनअधिकारीहैंकिसुनतेहीनहीं।

मेरीनोटिसमेंयहमामलाअभीआयाहै।विभागमेंतबादलाप्रक्रियाचलरहीहै।उच्चअधिकारियोंकोखेलप्रशिक्षक(डीपीवपीटी)कीनियुक्तिकेलिएलिखाजाएगा।उन्हेंउम्मीदहैकिइसीतबादलासूचीमेंस्कूलमेंखेलप्रशिक्षककीनियुक्तिहोजाएगी।

-अनिलशर्मा,जिलाशिक्षाअधिकारीपलवल

By Field