दविंद्रठाकुर,कुल्लू

केंद्रसरकारकीशरणमेंआनेकेबादकुल्लूजिलेकेपतलीकूहलकाशरणगांवसंवरनेलगाहै।इसेदेशके10हैंडलूमगांवोंमेंशामिलकियागयाहै।रास्तोंवनालियोंकानिर्माणहोनेलगाहै।घरोंकोपॉलिशकियाजारहाहै।इससेगांवकीतस्वीरधीरे-धीरेबदलनेलगीहै।

गांवमेंमहिलाएंखड्डीपरशॉल,टोपीवअन्यवस्त्रबनाकरआर्थिकीकोसुदृढ़कररहीहैं।नेशनलहैंडलूम-डेपरसातअगस्तकोकेंद्रीयमंत्रीस्मृतिइरानीनेनईदिल्लीसेऑनलाइनहैंडलूमगांवशरणकाशुभारंभपतलीकूहलमेंशुभारंभकियाथा।इसदौरानआयोजितकार्यक्रमकेदौरानगांवकी20महिलाओंकेखड्डीदीगईथीं।शरणगांवमें50महिलाएंखड्डीसेहीजीवनयापनकररहीहैं।60वर्षीयकमलादेवी,हीरादेवी,52वर्षीयचबेलूदेवीइत्यादिनेबतायाकिवेसर्दियोंमेंघरोंमेंरहकरखड्डीमेंकार्यकरतीहैं।तीनदिनमेंएकपट्टूतैयारहोताहै।बाजारमेंइसकीकीमततीनसेआठहजाररुपयेतकहै।वेबचपनसेहीइसकार्यकोकररहीहैं।अबअन्यमहिलाएंभीउनसेप्रेरितहोरहीहैं।

शरणगांवमेंहैं98घर

कुल्लूजिलाकेनग्गरखंडकेसाथलगतेशरणगांवमें98घरहैं।गांवकीकुलआबादी423है।इनमें223पुरुषऔर200महिलाएंशामिलहैं।गांवकीज्यादातरमहिलाएंबुनकरकाकार्यकरतीहैं।सभीमहिलाओंनेअपने-अपनेघरोंमेंखड्डीलगाईहै।सुबह-शामजबभीसमयमिलताहैखड्डियोंपरपट्टू,दोहडू,शॉलवपट्टीबनानेकाकार्यकरतीहैं।

शरणगांवमेंमहिलाएंअपनीसभीजरूरतेंखड्डीसेहीपूराकररहीहैं।शरणगांवकेलिएआएबजटसेगांवकाविकासकरवायाजारहाहै।महिलाएंअबआत्मनिर्भरबनरहीहैं।

-मुकेशकुमार,खंडविकासअधिकारीनग्गर।

गांवकोविकसितकरनेकेलिएयोजनापरकार्यकियाजारहाहै।गांवमेंघरोंकोपॉलिशकियाजारहाहै।रास्तोंवगलियोंकानिर्माणकियाजारहाहै।गांवकीमहिलाओंकोआत्मनिर्भरबनानेकेलिएकार्यहोरहाहै।

-अनिलसाहू,सहायकनिदेशकबुनकरसेवाकेंद्रकुल्लू।

By Ellis