खगड़िया।अबसेबखानेऔरउसकास्वादलेनेकेलिएदूसरेराज्योंमेंनहींजानापड़ेगा।अबइसकास्वादस्थानीयस्तरपरमिलरहाहै।खगड़ियाखेतीऔरकिसानीकेलिएप्रसिद्धहै।खेतीहोयाबागवानी,जिलेकेकिसाननित्यनवीनप्रयोगकररहेहैं।तभीतोजिलेमेंसेबकीखेतीकीजारहीहै।अभीइससेइक्के-दुक्केकिसानजुड़ेहैं।परंतुभविष्यमेंविस्तारहोगा।इसकेसाथहीलालबैरवलालकेलेजैसेअनोखेपौधेकेसाथअबआलूबुखाराऔरनासपातीउगानेकीतैयारीहोरहीहै।सेबमेंतोफूलकेसाथफललगचुकेहैं।बेलासिमरीनिवासीजफिरुलहोदाजावेदकेबगानमेंसेबकेपेड़लहलहारहेहैं।लालकेलाकाटेजानेकीतैयारीहोरहीहै।जफिरुलहोदाएकप्रगतिशीलकिसानहीनहींएककुशलबागवानभीहैं।इनकेबागमेंइजरालियनसेब,डोरसेटगोल्डेनसहिततीनप्रकारकेसेबलगेहैं।होदाकेअनुसारजूनमेंसेबकाफलखानेलायकहोजाएगा।जबकिआस्ट्रेलियनरेडबैरसहिततीनप्रकारकेबैर,थाइलैंडऑलटाइममैंगो,केसरसहितआमकीकईकिस्में,रेडबनाना,इंजिरआदिकेपौधेइनकेबागकीशोभाबढ़ारहेहैं।वर्तमानमेंइन्होंनेआलूबुखाराऔरनासपातीकेपौधेभीअपनेबगानमेंलगाएहैं।येबीते30वर्षोंसेखेतीऔरबागवानीकररहेहैं।येबिहारकेउनचंदकिसानोंमेंहैंजिन्होंनेशुरू-शुरूमेंस्ट्रॉबेरीकीखेतीशुरूकीथी।आजहोदासेअन्यकिसानप्रेरणापारहेहैं।दूर-दूरसेकिसानआतेहैंहोदाकेबगान

फिलहालजफिरुलजावेदहोदाकेबागमेंसेबकेसाथरेडबनानाफलरहेहैं।इसकेसाथबैरकेपौधेकीफलअबसमाप्तिपरहै।आस्ट्रेलियनरैडएपलबैरभीअबसमाप्तिपरहै।इसवर्षनासपातीऔरआलूबुखाराकेपौधेट्रायलकेतौरपरलगाएगएहैं।जबकिथाइलैंडकेऑलटाइममैंगोकेपौधेअभीछोटेहैं।इनमेंअगलेवर्षसेफललगनेलगेगा।जफिरुलहोदाकेअनुसारऑलटाइममैंगोवकटहलसभीदिनफलतेहैं।मंजरअभीनिकलेपरंतुपौधेअभीछोटे-छोटेहैं।इनमेंफललगनेसेपौधेकापोषणनहींहोसकेगा।इसलिएमंजरकोतोड़देतेहैं।गौछारीकेअनिलचौरसियाभीहोदासेप्रेरणालेकरसेबकीखेतीआरंभकरचुकेहैं।

''जिलेमेंसेबकीखेतीकोलेकरकुछसमृद्धकिसानआगेबढ़ेहैं।जिनमेंजफिरुलहोदानेपहलेट्रायलकेतौरपरसेबकेविभिन्नकिस्मकेपौधेलगाएहैं।जोअबफलनेलगेहैं।स्ट्रॉबेरीकीखेतीमेंभीउन्होंनेअग्रणीभूमिकानिभाईहै।वर्तमानमेंनासपातीवआलूबुखाराकेकुछपौधेउन्होंनेट्रायलकेलिएलगाएहै।सेबकीखेतीअनिलचौरसियानेभीइसवर्षसेआरंभकीहै।

डॉ.अनिताकुमारी,प्रधान,कृषिविज्ञानकेंद्रखगड़िया।''अभी19सेवकेपौधेबागानमेंमौजूदहैं।जूनमेंफलटूटेगा।अगरसेवकास्वादठीकरहातोतीनएकड़मेंअगलेसालसेइसकीखेतीशुरूकरेंगे।हिमाचलप्रदेशसेपौधेमंगातेहैं।एकपौधेपरसौसेतीनसौरुपयेखर्चपड़तेहैं।

जफिरुलहोदाजावेद,किसान

By Farmer