संवादसहयोगी,अमृतपुर:गन्नाशोधपरिषदकेपादपरोगविशेषज्ञनेकिसानोंकोगन्नामेंलालसड़नरोगकीरोकथामकीजानकारीदी।कृषिविज्ञानियोंनेकिसानोंकोरासायनिकखादकाउपयोगकमकरनेकीसलाहदी।साथहीजैविकखादसेखेतीमेंअधिकउत्पादनहोनेकेगुरसिखाए।

अमृतपुरक्षेत्रकेगंगाऔररामगंगाकेतटवर्तीगांवबनासीपुर,किराचन,माखननगला,रामप्रसादनगला,खुशहालीनगला,हमीरपुर,फखरपुर,कुडरीसारंगपुर,करनपुरघाट,मंझाकीमड़ैया,सबलपुर,कुबेरपुर,पिथनापुर,कोलासोता,गुडेरा,रुलापुर,चपरा,खाखिन,रेंगापुरवनिगारकेकिसानअधिकांशभूमिपरगन्नाकीखेतीकरतेहैं।गन्नाशोधपरिषदकेविज्ञानीडॉ.एसपीसिंहनेटीमकेसाथक्षेत्रमेंगन्नाकीफसलकानिरीक्षणकिया।किसानोंकोअधिकउत्पादनकरनेकेगुरुसिखाए।डॉ.एसपीसिंहनेकिराचनमेंकृषिगोष्ठीमेंबतायाकिक्षेत्रमेंगन्नामेंपांचफीसदलालसड़नरोगमिलाहै।उन्होंनेकिसानोंकोबतायाकिप्रभावितगन्नाकेझुंडकोउखाड़करब्लीचिगपाउडरकाछिड़कावकरें।लालसड़नसेप्रभावितखेतोंमेंट्राईकोडरमाचारकिलोप्रतिएकड़,दोक्विंटलसड़ीगोबरकीखादमेंमिलाकरउपयोगकरें।उन्होंनेकिसानोंकोरासायनिकखादकाउपयोगकमकरनेकीसलाहदी।डीसीएमशुगरमिलकेवरिष्ठगन्नाप्रबंधकबृजेशसिंहनेमिलद्वारादीजानेवालीसुविधाओंकीकिसानोंकोजानकारीदी।

By Elliott