जिमनास्टिकमें60गोल्डसहित177मेडलजीतनेकेबादप्रैक्टिसकेदौरानरीढ़कीहड्‌डीमेंऐसीचोटलगीकि13महीनेअस्पतालमेंरहनापड़ा।गर्दनकेनीचेकेशरीरमेंजैसेजानहीनहींरही।लगा,मानोसबखत्महोगया।फिरहिम्मतजुटाईऔरनएस्पोर्ट्सकेसाथकोर्टमेंलौटे।येकहानीहै,सीआरपीएफकेअसिस्टेंटकमांडेंटमयंकश्रीवास्तवकी।

मयंकखेलप्रशालमेंराष्ट्रीयपैराटेबलटेनिसप्रतियोगितामेंहिस्सालेनेआएहैं।व्हीलचेयरऔरएकसहयोगीकेबगैरवेकुछनहींकरपाते।यहांतककीरैकेटभीपकड़नहींपाते,उसेभीसहयोगीउनकेहाथपरबांधताहै,मगरफिरभीवेडटेहुएहैं,अपनेजैसेबाकीखिलाड़ियोंकोचुनौतीदेरहेहैं।

10वींमेंबनगएथेएसआई

जिमनास्टिकमेंबेहतरप्रदर्शनकेचलतेमयंकको10वींकक्षामेंहीसीआरपीएफमेंनौकरीमिलगईथी।मूलत:प्रयागराजकेमयंककोसबइंस्पेक्टरकेरूपमेंपहलीनौकरीमिली,खेलकीसफलतानेचोटलगनेकेपहलेतकअसिस्टेंटकमांडेंटबनादिया।डिसेबलहोनेकेबादभीमयंकएबलखिलाड़ियोंकोव्हीलचेयरपरबैठे-बैठेहीजिमनास्टिककीट्रेनिंगभीदेतेहैं।

उंगलियोंमेंजाननहीं,रैकेटहाथमेंबांधकरसंभालतेहैंमैदान

1994से2010केबीचजिमनास्टिककीतीनविश्वचैंपियनिशप,तीनकॉमनवेल्थगेम्स,दोएशियनचैंपियनिशप,दोविश्वकपसहितकईटूनार्मेंटमेंमयंकसफलताकापरचमफहराचुकेथे।चोटकेबादजीतकीजिदसे2020सेवापसीकी।नेशनलपैराएथलेटिक्समेंभीहिस्सालिया।पत्नीऔरदोबेटेउनकेहरटूनार्मेंटमेंसाथहोतेहैं।हाथोंकीउंगलियोंमेंजाननहींहैइसलिएहाथोंमेंरैकेटबांधकरखेलतेहैं।

नंबर1खिलाड़ीदांगीभी

पैराटेबलटेनिसमेंदेशकेनंबरएकखिलाड़ीहरियाणाकेसंदीपदांगीभीटूनार्मेंटकेलिएइंदौरआएहैं।संदीपकाभीगर्दनकेनीचेकाहिस्सालगभगबेजानहै।व्हीलचेयरपरहीयहउपलब्धिहासिलकीहै।

बमधमाकेमेंपैरउड़ा,लेकिनजुनूननहीं

सीआरपीएफकेसेंट्रलपैरास्पोर्ट्सऑफिसर(दिल्ली)आरकेसिंहभीखिलाड़ीकेरूपमेंआएहैं।मई2011मेंझारखंडमेंनक्सलीहमलेमेंबमधमाकेसेएकपैरउड़गया।तीनमाहइलाजकेबादनौकरीपरलौटे।हारमानकरबैठनेकेबजाए,युद्धमेंअंगगंवाचुकेजवानोंकामनोबलबढ़ाया।कईमैराथन,लम्बीसाइकिलिंग,निशानेबाजीजैसीस्पर्धाओंमेंउतरे।अबपैराटेबलटेनिसकेनेशनलप्लेयरहैं।

By Edwards