अलीगढ़,सुरजीतपुंढीर।कोरोनाकालमेंकाफीदिनोंबादएकअच्छीखबरआईहै।केंद्रसरकारनेदेहातक्षेत्रकेबेघरोंकोलंबेइंतजारकेबादपीएमआवासयोजनाकीसौगतदीहै।जिलेसेपिछलेदिनोंकुल1847आवासस्वीकृतहुएहैं।इनसभीलाभार्थियोंकाचयन2011कीआर्थिकएवंसामाजिकजगनणनासेवंचितरहजानेकेबादकियागयाहै।इनसभीकोआवासनिर्माणकीदो-दोकिश्तजारीकरदीहैं।जल्दहीतीसरीकिश्तभीमिलजाएगी।एकआवासपर1.20लाखकीधनराशि,14हजारकाएकशौंचालयव90दिनोंकीमनरेगामजदूरीमिलेगी।

सामाजिकजनगणनाकोआधारबनाया

केंद्रसरकारने2022तकहरव्यक्तिकोआवासदेनेकालक्ष्यतयकियाहै।शहरीवग्रामीणक्षेत्रोंकेलिएअलग-अलगपीएमआवासयोजनासंचालितकररखीहै।ग्रामीणक्षेत्रोंमेंआवासनिर्माणकेलिएएकलाभार्थीकोसरकार1.20लाखकीधनराशिदेतीहै।निर्माणकीजिम्मेदारीग्रामीणअभियंत्रणविभागकीहोतीहै।2015मेंपीएमआवासयोजनाकीशुरुआतकीथी।आवासआवंटनकेलिए2011मेंहुईआर्थिकएवंसामाजिकजनगणनाकोआधारबनायाहै।इसमेंजिसव्यक्तिकानामथा,उसेहीलाभदियागया।शुरुआतीपांचसालोंमेंजिलेकेकरीबपांचहजारसेअधिकलाभार्थीइससेलांभावितहुए।लेकिन,जिनलोगोंकानामइससूचीमेंनहींथा,उन्हेंआवाससेवंचितकरदियागया।ऐसेमेंजिलेमेंहजारोंलोगआवाससेवंचितरहगए।हरजिलेसेइसनियमकोलेकरविरोधजतायागया।

2017मेंआयानयाआदेश

विरोधकेचलतेसरकारने2017मेंएकनयाआदेशजारीकरदियाहै।इसमें2011कीआर्थिकएवंसामाजिकजनगणनासेवंचितबेघरोंकेभीसर्वेकरानेकेनिर्देशदिएथे।ब्लाकस्तरीयटीमोंनेयहसर्वेकिया।इसमेंकुल6747लोगपात्रमिले।इसकेबाद2019-20मेंइसकेलिएशासनस्तरसेएकपोर्टलखोलागया।इनमेंकरीबछहहजारलोगोंकेनामदर्जकिएगए।तकनीकिदिक्कतकेचलतेबाकीकेनामअपलोडनहींहोसके।

अबसरकारनेइनछहहजारनामोंमेंसेपहलीबारमें1847लोगोंकेलिएआवासस्वीकृतकरदिएहैं।शासनस्तरसेसभीलाभार्थियोंकोपीएमआवासकीदो-दोकिश्तजारीकरदीगईहैं।एकलाभार्थीकोमकानबनानेकेलिए1.20लाखकीधनराशिकेसाथही90दिनकीमनरेगामजदूरीवएकशौचालयमिलेगा।दिसंबर2020सेइनआवासोंकीधनराशिखातोंमेंपहुंचनीशुरूहुईथी।

ब्लाकवारइसतरहआवंटितहुएहैंआवास

ब्लाक,आवासकीसंख्या

सभीलाभार्थियोंकोदो-दोकिश्त

2011कीजनगणनासूचीसेवंचितलोगोंकोभीसरकारनेआवासस्वीकृतकरदिएहै।पहलीबारमेंजिलेमेंकुल1847आवासआवंटितहुएहैं।सभीलाभार्थियोंकोदो-दोकिश्तमिलगईहैं।

अंकितखंडेलवाल,मुख्यविकासअधिकारी

By Douglas