जासं.बस्ती:बहादुरपुरब्लाककेपूरापिरईगांवमेंरविवारकोआजादीकेआंदोलनकेयोद्धापिरईखांकोयादकरश्रद्धांजलिअर्पितकीगई।इसमौकेपरपौधारोपणभीकियागया।संतद्वारिकाप्रसादस्नातकोत्तरमहाविद्यालयकोटवाआंबेडकरनगरकेप्रबंधकडा.हरीशवर्मानेकहाकिपिरईखांकुशलसैनिकवयुद्धनीतिमेंमाहिरशख्सथे।उनकेनेतृत्वमेंचलेस्वतंत्रतासंग्राममेंगुरिल्लाक्रांतिकारियोंनेलाठी-डंडे,तलवार,फरसा,भाला,किर्चआदिलेकरमनोरमानदीपारकररहेअंग्रेजअफसरोंपर10जून1857कोधावाबोलदिया।जिसमेंले.लिडसे,ले.थामस,ले.इंगलिश,ले.रिची,ले.काकलऔरसार्जेंटएडवर्डकीमौकेपरमौतहोगईथी।विशिष्टअतिथिभारतीयशहीदमेमोरियलट्रस्टकेराष्ट्रीयअध्यक्षडा.विद्यारामविश्वकर्मानेकहाकिमहुआडाबरएक्शनकेबादफिरंगीसरकारनेअंग्रेजअफसरोंकीहत्याकेअपराधमेंयहांकेलोगोंकेघर-बार,खेती-बारी,रोजी-रोजगारसबआगकेहवालेकरतहस-नहसकरदियागया।इसगांवकानामोनिशानमिटवाकर'गैरचिरागी'घोषितकरदिया।इतनाहीनहींक्रांतिकारीनेताओंकाभेदजाननेकेलिएगुलामखान,गुलजारखानपठान,नेहालखानपठान,घीसाखानपठानवबदलूखानपठानको18फरवरी1958सरेआमफांसीदेदीथी।सहायकअध्यापकविनोदकुमार,अध्यापकमोहिउद्दीनखान,आदिलखाननेभीअपनेविचारव्यक्तकिए।अध्यक्षतापूरापिरईकेप्रधानऔरसंचालनक्रांतिकारीलेखकशाहआलमनेकिया।

By Dyer