संवादसूत्र,चंदवा:विगतकईदिनोंसेलगातारहोरहीबारिशसेजनजीवनअस्त-व्यस्तहोगयाहै।लोगोंकोआवश्यककार्योंकेसंपादनमेंपरेशानीहुई।बच्चेऔरबुजुर्गकेसाथअन्यकोभीपरेशानियोंसेदो-चारहोनापड़ा।मिट्टीकेघरकेसाथसीमेंटकंक्रीटकीढलाईवालीछतोंसेभीपानीरिसनेलगाहै।कच्चीमिट्टीवालेमकानोंमेंरहनेवालोंकोघरकेगिरनेऔरक्षतिग्रस्तहोनेकीचितासतानेलगीहै।बारिशकेकारणहॉकरभीकईलोगोंकेघरतकनहींपहुंचपाएजिसकेकारणकईलोगसमाचारपत्रपढ़नेऔरसंबंधितजानकारीलेनेसेवंचितरहे।हलांकिसोशलमीडियासेआसपासकीखबरकीजानकारीलोगलेतेरहे।विदितहोकिमार्चमहीनेमेंएक-दोदिनोंकोछोड़करलगभगदिनोंतकमौसमखराबरहाहै।बारिशकेकारणहोलीकारंगभीफीकारहाथा।

स्कूलोंमेंउपस्थितिहुईकम:लगातारहोरहीबारिशकेकारणशनिवारकोस्कूलोंमेंविद्यार्थियोंकीउपस्थितिकमरहीतोबारिशकेकारणकईविद्यालयप्रबंधनद्वाराविद्यालयोंकेविद्यार्थियोंऔरअभिभावकोंकीपरेशानीकोदेखतेहुएआपातकालीनअवकाशघोषितकरदियागयातोअन्यविद्यालयोंमेंउपस्थितिकमरही।

बिजलीभीरहीबाधित:लगातारहोरहीबारिशकेबीचचंदवाकीबिजलीभीबाधितथी।शुक्रवारकीदेररातगायबहुईबिजलीशनिवारकीअहलेसुबहकुछपलोंकेलिएबहालहुई।उसकेबादगायबहुईबिजलीसमाचारलिखेजानेतकबाधितथी।