संवादसूत्र,टेढ़ागाछ(किशनगंज):मानसूनकेदस्तकसेप्रखंडक्षेत्रमेंलगातारतीनदिनोंसेहोरहीरिमझिमबारिशसेलोगोंकोराहतमिलीहै।एकतरफगर्मीवउमससेराहतहैतोदूसरीतरफखेतीकिसानीकेलिहाजसेकिसानोंकेलिएफायदेमंदसाबितहोरहाहै।कमोवेशबारिशसभीइलाकोंमेंहोरहीहै।बच्चेबारिशकामजालेरहेहैं।पहलीबारिशमेंभींगनेकाआनंदलेतेहुएबच्चेहरजगहदिखाईदेरहेहैं।रिमझिमबारिशऔरखेतोंमेंजमापानीदेखकरकिसानोंकेमुरझाएचेहरेखिलउठेहैं।जबहमारेअन्नदाताखुशहोतेहैंतोखेतोंकीमिट्टीभीअपनीखुशियोंकोजाहिरकरतीहै।जिसकाकिसानोंकेकादोभरेपैरऔरशरीरमेंलगेमिट्टीदेखकरसहजअंदाजालगासकतेहैं।

दूसरीओरअच्छीबारिशकृषिउत्पादनबढ़ानेमेंसहायकहोतीहै।लेकिनयहटेढ़ागाछकेलिएअभिशापबनजाताहै।नदियोंसेकटेकईकलवर्टओरटूटीसड़केंअबभीज्योंकेत्योंपड़ेहैं।कटावरोधीकार्य,पूर्वमेंबनाएगएटूटीबांधमरम्मतीआदिसारेउपायफेलनजरआरहाहै।अबतकलौचापुलनिर्माणकार्यअधूराहै।सरकारकोजल्दसेजल्दइनअधूरेकामकोपूराकरनाहै,अन्यथाटेढ़ागाछवासियोंकोकाफीदिक्कतोंकासामनाकरनापड़ेगा।प्रशासनकोअभीसेआपदाजोखिमकीतैयारियोंकोपूराकरलेनाचाहिए।