श्लोकमिश्र,बलरामपुर:बोर्डपरीक्षामेंकमअंकपानेवालेकईछात्र-छात्राएंऐसीहैं,जिन्होंनेएकसफलकैरियरकामुकामहासिलकिया।कमअंकमिलनेकेबादभीहताशनहोकरकैरियरकीनईराहचुनी।जिससेआजवहशिक्षा,चिकित्सा,बैंक,खेलवराजस्वसमेतविभिन्नराजकीयसेवाओंमेंयोगदानदेरहेहैं।प्रस्तुतहैविद्यालयकेप्रधानाचार्योंसेबातचीतपरआधारितरिपोर्ट-

-बलरामपुरमॉडर्नइंटरकॉलेजकीप्रधानाचार्यामंजूश्रीवास्तवकाकहनाहैकिबोर्डपरीक्षामेंमिलनेवालेअंकसफलकैरियरबेशकअपनीमहत्वपूर्णभूमिकानिभातेहैंलेकिन,कमअंकमिलनेपरछात्रोंकोहताशनहींहोनाचाहिए।कमअंकपानेवालेछात्रभीअपनीमेहनतवलगनसेअच्छेमुकामपरहैं।वर्ष2003में10वींकेछात्ररविमिश्रको53प्रतिशतमिलेथे।कड़ीपरिश्रमकरउसनेइंटरमीडिएटमें61प्रतिशतअंकहासिलकिया।इसकेबादउसनेरुचिकेअनुसारबायोटेक्नोलॉजीकाक्षेत्रचुना।इसक्षेत्रमेंबेहतरकार्यकरनेकेलिएउसेमार्च2018मेंजापानमेंसम्मानितकियागया।आजवहपीजीआइलखनऊमेंशोधसहायककेपदपरकार्यरतहै।यहसिद्धकरताहैकिबोर्डपरीक्षामेंकमअंकपानेवालेछात्रअपनीमेहनतवलगनकेदमपरऊंचामुकामहासिलकरसकतेहैं।-सिटीमांटेसरीइंटरकॉलेजकेप्रधानाचार्यकेपीयादवकाकहनाहैकिबोर्डपरीक्षाकेअंकबच्चोंकीक्षमतामापनेकाकोईपैमानानहींहैं।कमअंकपानेवालेभीसफलताकीऊंचाइयोंकोछूनेमेंसक्षमहोतेहैं।इसकाउदाहरणवर्ष2005मेंविद्यालयके12वींकीपरीक्षापासकरनेवालाचंद्रशेखरवर्माहै।जिसे77प्रतिशतअंकमिलेथे।इसकेपूर्वहाईस्कूलमेंउसे53.66प्रतिशतअंकहीमिलेथेलेकिन,कड़ीमेहनतकरउसनेबीटीसीकाप्रशिक्षणलियाऔरआजवहबहराइचजिलेकेसरकारीस्कूलमेंसहायकअध्यापकहै।बोर्डपरीक्षामेंअपेक्षासेकमअंकपानेवालेपरीक्षार्थीहतोत्साहितनहो।अगलीपरीक्षाओंमेंवहबेहतरप्रदर्शनकरअच्छामुकामहासिलकरसकतेहैं।

-एमपीपीइंटरकॉलेजकेप्रधानाचार्यकैप्टनजीपीतिवारीभीबोर्डपरीक्षामेंकमअंकपानेवालेबच्चोंको¨चतितनहोनेकीसलाहदेतेहैं।उनकाकहनाहैकिकड़ीमेहनतवपरिश्रमहीसफलताकामूलमंत्रहै।वर्ष2005मेंविद्यालयसेहाईस्कूलव2007मेंइंटरमीडिएटसामान्यअंकोंसेउत्तीर्णकरनेवालाछात्रसलमानअहमदकड़ीमेहनतकेबलपरचिकित्सकबनआजलखनऊमेंस्वयंकाअस्पतालचलारहाहै।विद्यार्थियोंकोइससेसीखलेनेकीजरूरतहै।जीवनमेंअच्छामुकामहासिलकरनेकाकोईशॉर्टकटनहींहै।कोईभीसामान्यछात्रपरिश्रमवमजबूतइरादोंसेकाईभीसफलताअर्जितकरसकताहै।

By Douglas