गांवा(गिरिडीह),संदीपबरनवाल।गिरिडीहजिलेकीनीमाडीहपंचायतकाबिशनीटिकरविधायकराजकुमारयादवकापैतृकगांवहै।पूर्वमेंइसगांवसेकोईभीमामलाथानानहींजाताथा।गांवकेबाहरलगेचबूतरेपरलगतीथीग्रामसभाऔरहोताथासमस्याओंकानिपटारा।

गांवतकपहुंचनेकेलिएमाल्डानीमचौकसेनीमाडीहपथकेजरिएआनापड़ताहै।गांवकेप्रवेशद्वारकेठीकसामनेस्थितहैभगवानशिवपार्वतीकामंदिरजिसकेबगलमेंहैउत्क्रमितउच्चविद्यालयबिशनीटिकर।सुबहके09.15बजेहैं।गांवमेंघुसनेकेलिएपक्कीसड़कहै,बिजलीकेखंभे,चापाकलभीदिखाईपड़रहेहैं।गांवमेंचहलपहलशुरूहोचुकीहै।गांवकीशुरुआतमेंस्थितउत्क्रमितउच्चविद्यालयमेंशिक्षकपहुंचचुकेहैं।धीरेधीरेबच्चेभीभीआरहेहैं।यहसाफपताचलरहाहैकिविद्यालयनिरंतरखुलताहै।गांवकेमुहानेपरहीकुछमहिलाएंमिलींजिनसेबातचीतकीतोकैमरेकेसामनेकुछभीबोलनेसेउन्होंनेइंकारकरदियापरंतुजबबातचीतकेदौरानउनकीसमस्याओंकेबारेमेंजाननेकीकोशिशकीतोवेतुरंतबतानेकोतैयारहोगईं।उन्होंनेभीउनसेयहजाननेकीकोशिशकीकिआजकेइसविकासकेदौरमेंविधायककागांवबिशनीटिकरकिसपायदानपरहै।यहीनहींयहभीजाननेकीकोशिशकीकिपिछलीबारजिन्हेंउनलोगोंनेअपनाप्रतिनिधिचुनाथावेउनकेभरोसेपरखरेउतरेयानहीं।इसबारगांवकेलोगकिनबातोंकोध्यानमेंरखकरअपनासांसदचुनेंगे।इनसबकेबीचहोलीबीतचुकीहै।

गांवकाभ्रमणकरनेकेदौरानगांवमेंकईनएयुवाचेहरेभीनजरआरहेहैंजोबाहररहकरअपनावअपनेपरिवारकाभरणपोषणकरतेहैं।वेगेंहूकीफसलकटनेकोतैयारहैंजिसकारणइनयुवाओंकीमहानगरोंकीओरवापसीमेंदेरीहोरहीहै।लोगोंकेचेहरेपरखुशीहैकिइसबहानेएकमाहपरिवारवालोंकेसाथउनकाबीतेगा।वहींउनलोगोंसेबातकरनेपरएकटीसउनकेदिलमेंसाफझलकतीहैकिकाशगांवमेंहीरोजगारकीसुविधाहोतीतोपरिवारवालोंकोछोड़करउन्हेंबाहरनहींजानापड़ता।

महेंद्रप्रसादयादव:यहांपेयजलकीसमस्याहै।बोरिंगकरनेकेबादभीऊपरटोलाबिशनीटीकरमेंखारापानीनिकलताहै।पानीमेंआयरनकीमात्राबहुतज्यादाहैइसलिएवहपीनेलायकनहींहै।यहांजलमीनारकीव्यवस्थाहोजाएतोसमस्यादूरहोजाएगी।बिजलीकीसुविधाबहालहुईहैपरवहपूरीनहींमिलतीहै।

लट्टूयादव:गांवमेंसिंचाईकीसुविधाकेलिएचेकडैमकानिर्माणहुआहैपरंतुचेकडैमकेआसपासकेलोगोंकोहीइसकालाभमिलताहै।दूरवालेलोगोंकोइससेदिक्क्क्तहोतीहै।हालांकिदूरस्थितखेतोंमेंचेकडैमसेपाइपलगाकरपानीपहुंचानाथापरपाइपटूटफूटगईहैजिससेउन्हेंपरेशानीहोरहीहै।

रूपेशकुमार:गांवमेंरोडवपुल-पुलियाबनीहै।गांवकेबाहरएकबड़ेपुलवसड़ककेनिर्माणसे१५किलोमीटरकीदूरीचारकिलोमीटरमेंतयहोरहीहै।बिजलीअपेक्षाकृतकममिलतीहै,पेयजलकीकमीहै,सिंचाईकीमुकम्मलव्यवस्थानहींहुईहै।वेखुदपंजाबमेंरहकरगाड़ीचलातेहैं।रोजगारकेअभावमेंलोगबाहररहकरकामकरतेहैं।

रामदेवयादव:बिशनीटिकरकेउतरीक्षेत्रमेंसिंचाईकीसुविधाकाअभावहै।इसकारणकिसानोंकोखेतीकरनेमेंबहुतपरेशानीहोतीहै।अगरइसक्षेत्रमेंभीएकचेकडैमकानिर्माणहोजाएतोकिसानोंकोसुविधाहोजाएगी।

सरितादेवी:इसडिजिटलयुगमेंगांवमेंनेटवर्ककीबहुतदिक्कतहैजिसकारणघरमेंमोबाइलरहनेकेबादभीबातचीतकरनेमेंपरेशानीहोतीहै।बातकरनेकेलिएघरमेंमोबाइलकोटांगकररखनापड़ताहै।यहांइंटरनेटकीव्यवस्थानाकेबराबरहै।

रमापतिदेवी:यहांपेयजलकीसमस्याहैऔरपीनेकेपानीकेलिएघरमेंचापाकलनहींहै।दूसरीजगहसेपानीलानापड़ताहै।विधायककेइसीगांवकेरहनेसेकाफीहदतकसमस्याओंकानिराकरणहुआहै।गांवमेंसड़केंदुरुस्तहुईहैंऔरकोईभीगलीकच्चीनहींहै।पूर्वमेंकच्चीगलियोंकेकारणबरसातमेंपरेशानीहोतीथीपरअबयेसमस्यादूरहुईहैवगांवकीगालियांपक्कीहोगईहैं।

बैजनाथप्रसादयादव:गांवमेंरोजगारकीसुविधानहींहै।इसकारणगांवके८०प्रतिशतयुवादिल्लीमुंबई,पंजाब,सूरतवहैदराबादमेंरहकरकामकरतेहैं।इससेउनकेघरमेंअगरकोईसमस्याहोतोबाहरसेवेसमयपरघरनहींआपातेहैं।कुछलोगढिबरापरभीआश्रितहैंजहांउन्हेंहादसेकाशिकारभीहोनापड़ताहै।

By Elliott