जागरणसंवाददाता,रोहतक:लॉकडाउनमेंगरीबमजदूरोंकीमुसीबतबढ़रहीहै।जिलामेंअनेकऐसेलोगहैंजोमजदूरीकरतेहैंयागरीबहै।उनकाकहनाहैकिअबपिछलेकाफीसमयसेलॉकडाउनकेचलतेउनकेपरिवारोंकोखानेकोभीतरसनापड़रहाहै।कोरोनाकालमेंअनेकलोगोंकाकामधंधाबंदहोनेसेउनकीदिक्कतेंबढ़रहीहैं।ऐसेलोगोंकोघरचलानामुश्किलहोरहाहै।हालांकिपिछलेसालऐसेलोगोंकीसुधलेनेकेलिएसमाजसेवीसंगठनआगेआएथे।लेकिनइसबारसमाजसेवियोंकाभीध्यानउनकीतरफनहींगयाहै।इसीकारणइसबारउनकीमुसीबतेंबढ़गईहैंऔरउनकेलिएपरिवारकागुजाराकरनामुश्किलहोगयाहै।

शोराकोठीनिवासीजयराजनेबतायाकिवेटेंटकाकार्यकरतेहैं।लेकिनलॉकडाउनमेंउनकायहकामकाफीसमयसेबंदहै।विवाहशादीमेंभीकमसेकमआदमीशामिलहोतेहैं।ऐसेमेंअबकामनहींहोनेसेउनकीआमदनीभीनहींहोरहीहैऔरउनकेलिएघरखर्चचलनामुश्किलहोरहाहै।पिछलेसालसमाजसेवीगरीबलोगोंतकराशनआदिपहुंचानेकेलिएआगेआएथे।तोलोगोंकोकमसेकमघरपरखानातोउपलब्धहोरहाथालेकिनइसबारमुश्किलेंबढ़ीहुईहैं।समाजसेवीसंगठनोंकीओरसेभीउनकोयाउनकेजैसेअन्यगरीबोंकोराशनकीमददनहींमिलीहै।

गौकर्णरोडनिवासीकृष्णकाकहनाहैकिवेऑटोडेकोरेशनकाकार्यकरतेहैं।लॉकडाउनमेंदुकानेंबंदहैं।महीनेभरसेघरबैठेंहैं।उनकेजैसेऔरभीनजानेकितनेऐसेव्यक्तिहैंजोमजदूरीकरअपनेघरकाखर्चचलातेहैं।लेकिनअबनतोमजदूरीमिलरहीहैऔरनहीराशनआदिकीमददकेलिएकोईआगेआयाहै।जिसकेचलतेपरिवारकाखर्चचलानामुश्किलहोगयाहै।उन्होंनेप्रशासनसेमददकीगुहारलगाईहै।

By Evans