प्रयागराज,जागरणसंवाददाता।नकोईभेदभाव,नकिसीप्रकारकाराग-द्वेष।धनीहोयानिर्धनसबकाभावसिर्फमाघीपूर्णिमापरप्रयागराजमेंगंगा,यमुनाकेसंगमकेपवित्रजलमेंडुबकीलगाकरपुण्यअर्जितकरनेकाहै।इसीसंकल्पनाकोसाकारकरनेकेलिएनर-नारीवबच्चेत्रिवेणीकेतटपरखिंचेचलेआरहेहैं।श्रद्धालुओंसेपूराक्षेत्रपटगयाहै।पवित्रजलमेंगोतालकरहरकोईअक्षयपुण्यकीप्राप्तिकीअनुभूतिकररहाहै।माघमेलेकेइसपांचवेंस्‍नानपर्वपररातसेसुबहसातबजेतकएकलाखलोगोंनेस्नानकरलियाथा।वहींसुबह11बजेतकलगभग4.50लाखलोगोंनेस्नानकिया।

मंगलवाररात9.22बजेसेपूर्णिमातिथिलगचुकीहै

माघीपूर्णिमातिथिमंगलवारकीरात9.22बजेलगचुकीहै।इससेसंगममेंस्नानकासिलसिलामध्यरात्रिमेंआरंभहोगयाथा।सूर्योदयकेबादस्नानार्थियोंकीभीड़बढ़तीजारहीहै।संगमकेअलावागंगाकेअक्षयवट,रामघाट,गंगोलीशिवालय,दारागंजवअरैलघाटपरभीस्नान-दानकासिलसिलाचलरहाहै।

पूर्वजोंकोनमनकरलौटरहेकल्पवासी

माघीपूर्णिमास्नानकेसाथसंगमक्षेत्रमेंमाहभरसेचलरहेकल्पवासखत्महोगयाहै।पौषपूर्णिमासेघर-गृहस्थीसेदूररहकरभजन-पूजनकरनेवालेकल्पवासीलौटनेलगेहैं।संगमवगंगामेंडुबकीलगाकरकल्पवासीअपनेशिविरपरआकरतीर्थपुरोहितोंकेमंत्रोच्चारकेबीचपूजनकररहेहैं।आराध्यवपूर्वजोंकोनमनकरकेअगलेवर्षपुन:आनेकासंकल्पलेकरकल्पवासीघरोंकोलौटनेलगेहैं।प्रसादस्वरूपसंगमकारज,तुलसीवजौकापौधासाथलेजारहेहैं।कल्पवासियोंकेसाथसंतभीलौटनेलगेहैं।संतोंनेसुबहस्नानकरकेखिचड़ीकाप्रसादग्रहणकिया।इसकेसाथअपनेमठ-मंदिरोंमेंलौटनेलगेहैं।

तीर्थपुरोहितोंकोदेरहेदान

माघीपूर्णिमापरजप,तप,व्रत,दानकाविशेषमहत्वहै।इसीकारणसनातनधर्मावलंबीयथासंभवदानभीकररहेहैं।स्नानकेबादतीर्थपुरोहितोंकोअन्न,वस्त्र,गुड़,घी,फलआदिदानदियाजारहाहै।पूर्णिमातिथिकाप्रभावदिनभरहै।इसकेचलतेस्नान-दानकासिलसिलादिनभरचलतारहेगा।

अन्‍यस्‍नानपर्वोंकीअपेक्षाभीड़कम

मेलेमेंअन्यस्नानपर्वोंकीअपेक्षाकमभीड़है।हालांकिमाघमेलेमेंदाखिलहोनेवालेहर्षवर्धनचौराहाऔरफोर्टरोडचौराहेपरपुलिसनेबैरिकेडिंगकररखीहै।मेलेमेंकमभीड़होनेकेबावजूदबिनापासवालेवाहनोंकोरोकाजारहाहै।

By Fisher