जागरणसंवाददाता,औरैया:बदलतेमौसमकेचलतेसंक्रामकबीमारियांतेजीसेपैरपसाररहीहैं।निजीसेलेकरसरकारीअस्पतालोंमेंमरीजोंकीभीड़उमड़रहीहै।इनदिनोंसंक्रामकबीमारियोंकीचपेटआमजनमानसलेकरअधिकारीभीआरहेहैं।

कभीबारिशतोकभीतेजधूपकेकारणमौसमबदलरहाहै।सुबहसेहीजिलाअस्पतालमेंसैकड़ोंकीसंख्यामेंमरीजोंकीभीड़लगनाशुरूहोजातीहै।चिकित्सकोंकीकमीकेकारणकईमरीजबगैरइलाजकराएहीघरवापसलौटजातेहैं।सरकारीअस्पतालोंमेंभीषणभीड़कोदेखतेहुएमरीजनिजीअस्पतालजानेकोमजबूरहोतेहैं।जहांपरउनसेमनमानेरुपयेवसूलेजातेहैं।बुधवारकोजिलाअस्पतालमें653मरीजोंनेपर्चेकटाए।डॉक्टरोंकीकमीकेचलतेकरीबतीनसौमरीजवापसलौटगए।जिलाअस्पतालमेंदिनपरदिनमरीजोंकीभारीभीड़उमड़रहीहै।इनदिनोंसबसेज्यादाभीड़खूनटेस्टकरानेकेलिएलोगपहुंचरहेहैं।इसकेअलावाडाक्टरोंकेचेंबरवदवाकाउंटरपरभारीभीड़देखनेकोमिलरहीहै।सीएमएसनेबतायाकिमौसमकेबदलावकेचलतेमरीजोंकीभीड़अधिकआरहीहै।लोगोंकोइसदौरानबाहरकीचीजेखानेसेपरहेजकरनाचाहिए।

By Dyer