नईदिल्ली।देशकीराजधानीदिल्लीमेंई-वाहनोंकोप्रोत्साहितकरनेकेक्रममेंदिल्लीसरकारनेअबई-साइकिलोंकोभीसब्सिडीदेनेकाफैसलाकियाहै,जोस्वागतयोग्यहै।परिवहनमंत्रीकैलाशगहलोतकेअनुसार,ऐसापहलीबारहैजबकिसीराज्यनेअपनीई-वाहननीतिमेंई-साइकिलकोभीशामिलकियाहै।सरकारपहलीदसहजारई-साइकिलोंकीबिक्रीपर5500रुपयेसब्सिडीदेगी।इसकेअतिरिक्तइनदसहजारई-साइकिलोंमेंसेपहलेखरीदीगईएकहजारसाइकिलोंकोदो-दोहजाररुपयेकीअतिरिक्तप्रोत्साहनराशिदीजाएगी।हालांकि,सरकारनेइसकेलिएपात्रताकीशर्तेंभीतयकरदीहैं,जिसकेअनुसारएकव्यक्तिकोएकहीई-साइकिलपरसब्सिडीमिलेगीऔरउसेदिल्लीकास्थायीनिवासीहोनाअनिवार्यहै।

दिल्लीकोई-वाहनोंकीराजधानीबनानेकेलिएदिल्लीसरकारइनवाहनोंकीखरीदकेलिएलोगोंकोप्रोत्साहितकररहीहै।राजधानीमेंवायुप्रदूषणकीवर्षभररहनेवालीखराबस्थितिकिसीसेछिपीनहींहै।इसस्थितिमेंसुधारकेलिएयहबेहदजरूरीहैकिवाहनोंकोस्वच्छईंधनसेचलायाजाएऔरप्रदूषणफैलानेवालेईंधनसेचलनेवालेवाहनोंकोजितनाजल्दीसंभवहोसड़कोंसेहटायाजाए।

दिल्लीमेंअभीलास्टमाइलकनेक्टिविटीकीसुविधानहींहै,जिसकीवजहसेदोपहियावाहनोंकाउपयोगज्यादाहोताहै।अधिकतरदोपहियावाहनपेट्रोलपरहीचलतेहैंऔरवायुप्रदूषणकीबड़ीवजहबनतेहैं।लिहाजा,यहआवश्यकहैकिइनकेप्रयोगकोसीमितकरनेकेप्रयासकिएजाएं।

ऐसीउम्मीदकीजानीचाहिएकिदिल्लीसरकारकेप्रोत्साहनसेई-साइकिलोंकीबिक्रीऔरउपयोगबढ़ेगा,जोपेट्रोलसेचलनेवालेवाहनोंकाबेहतरविकल्पबनेगा।दिल्लीवासियोंकोसरकारीकीइसनीतिकालाभउठानाचाहिएऔरई-साइकिलोंकाउपयोगकरदिल्लीमेंवायुप्रदूषणकोसीमितकरनेमेंअपनायोगदानदेनाचाहिए।

By Evans