मधेपुरा।प्रखंडमुख्यालयस्थितमहर्षिमेंहींउच्चमाध्यमिकप्लसटूविद्यालयमेंनामांकितछात्रतोहैं,लेकिनउसेपढ़ानेवालेशिक्षकनहींहैं।बिनाशिक्षककेहीविद्यालयमेंपठन-पाठनकाकामचलरहाहै।विद्यालयमेंनौवींव10वींके568छात्रोंकोपढ़ानेकेलिएप्राचार्यसहितकुलआठशिक्षकहैं।वहीं11वीं12वींकेछात्रोंकोपढ़ानेकेलिएशिक्षककीनियुक्तिहीनहींहुईहै।इतनाहीनहींविद्यालयमेंउर्दू,संस्कृतशिक्षककेशिक्षकभीनहींहैं।इसकारणउर्दू,संस्कृतविषयकीपढ़ाईबच्चोंकोस्वयंकरनीपड़तीहै।विद्यालयमेंबड़ासाखेलकामैदानहै,लेकिनशारीरिकशिक्षकउपलब्धनहींहैं।इसवजहसेखेलकैलेंडरकेसाथ-साथव्यायामकेसरेउपस्करवव्यायामशालाबेकारपड़ाहै।उपस्करअबनाकामहोनेलगेहैं।बिजलीकनेक्शनतोहै,लेकिनवायरिगनहींहोनेकेकारणसिर्फस्मार्टक्लासरूमतकहीसीमितहै।बच्चोंकोकंप्यूटरकीजानकारीकेलिएकंप्यूटरतोलगादिएगए,लेकिनशिक्षककीनियुक्तिनहींकीगई।कंप्यूटरमात्रविद्यालयकेशोभाकीवस्तुबनीहुईहै।विद्यालयमेंनौवीं,10वींव11वींक्लासमेंअध्ययनरतछात्रोंकेलिएशौचालयउपलब्धहै।विद्यालयमेंस्वच्छजलकीकोईव्यवस्थानहींहै।शिक्षकोंकेलिएमंगाएगएसप्लाईवाटरहीबच्चेपीतेहैं।40छात्रोंकेअनुपातमेंविद्यालयमेंकमसेकम16शिक्षककीआवश्यकताहै,लेकिनअभीतकविद्यालयमेंप्राचार्यसमेत10पदसृजितहैं।इसमेंसेमात्रआठशिक्षकपदस्थापितहैं।सहायकऔरशारीरिकशिक्षककेअभावमेंशिक्षकअध्यापनकार्यछोड़करदोशिक्षककार्यालयकार्यऔरएकशिक्षकखेलकाकार्यसंभालतेहैं।इसकासीधाअसरअध्यापनकार्यपरपरपड़रहाहै।इसकारणएकसौसे125छात्रहीनियमितविद्यालयआतेहैं।आठशिक्षककररहे16शिक्षकोंकाकामविद्यालयकेनामांकित568छात्रोंकेअध्यापनकेलिएछात्रअनुपातमें16शिक्षकोंसहितप्लसटूयानि11वींऔर12वींकेछात्रोंकेलिएकलाऔरविज्ञानविषयोंकेलिएशिक्षकोंकीआवश्यकताहै।आठशिक्षककेभरोसेसेअध्यापनसमेतकार्यालयकीजिम्मेदारीहै।विद्यालयप्रबंधसमितिद्वाराकईबारशिक्षकोंकीमांगकीगई,परंतुकोईपहलनहींहुईहै।

कमरेमेंहैलाइब्रेरीविद्यालयकेएककमरेमेंलाइब्रेरीस्थापितहै।जहांबच्चेपुस्तकतोलेसकतेहैंपरंतुपढ़ाईनहींकरसकते।घरपरस्वअध्यायकेलिएबच्चोंकोआवश्यकताअनुसारपुस्तकउपलब्धकरायाजाताहै।कोटविद्यालयकेशिक्षकशिक्षकक्लर्ककाकामभीकरनापड़ताहै।उर्दू,संस्कृत,शारीरिकऔरकंप्यूटरकेशिक्षकनहींहै।प्लसटूकेलिएएकभीशिक्षकनहींहै।इसकारणअध्यापनकार्यपूरानहींहोपाताहै।मंजेशकुमार,वरीयशिक्षक

विद्यालयकेसहायकऔरशिक्षककाकामदोशिक्षककेजिम्मेहै।हमेशादोशिक्षककोअध्यापनछोड़करकार्यालयकाकामदेखनापड़ताहै।रामकुमार,वरीयशिक्षक

विद्यालयमेंनौवीं,10वींव11वींमेंनामांकितछात्रोंकेपढ़ानेकेलिएमात्र10पदसृजितहै।उसमेंभीमात्रआठशिक्षकपदस्थापितहैं।ऐसेमें100से125छात्रनियमितआतेहैं।व्यवस्थाकेअभावमेंकिसीप्रकारविद्यालयकासंचालनकियाजारहाहै।प्रियमंदा,प्राचार्य

महर्षिमेंहींउच्चमाध्यमिकविद्यालय,कुमारखंड

By Edwards