गोहर,मृगेंद्रपाल।जिलामंडीकेसराजकेजंगलोंमेंबहुमूल्यलकड़ीकीतस्करीकासनसनीखेजखुलासाहुआहै। चिऊणी-लंबाथाचकेबखारीजंगलमेंखनोरऔरमैपलकेदुर्लभप्रजातिकेपेड़ोंकीलकड़ीकीतस्करीकीजारहीथी।स्थानीयलोगोंनेवनविभागकोसूचनादी।वनविभागकीटीमकीभनकलगतेहीतस्करमौकेसेफरारहोगए।वनविभागकीटीमकोमौकेसेकटर,आरी,तेलऔरस्लीपिंगबैगबरामदहुएहैं।बतायाजारहाहैतस्‍करकईदिनोंसेजंगलकीरेकीकररहेथे।

बतायाजारहाहैइसलकड़ीकाउपयोगगनवपिस्‍टलकेलिएभीकियाजाताहै।इसकेअलावालकड़ीकेकीमतीतोहफेआदिबनानेकेलिएभीइसकीमांगरहतीहै।जिलामंडीकीसेरीकतांडाबीटमेंवनरक्षकहोशियारसिंहकीमौतमामलेमेंभीमाफ‍ियाकाहाथहोनेकीबातउजागरहोतीरहीथी।वनरक्षककापेड़पररस्‍सीसेलटकाशवबरामदहुआथा।

वनविभागनेबरामदसामानकोजब्तकरमामलेकीछानबीनशुरूकरदीहै।भौगोलिकदृष्टिसेसराजकेजंगलबेशकीमतीपेड़ोंकेलिएविख्यातहैं।खनोरऔरमैपलकेपुरानेपेड़तस्‍करोंकेनिशानेपरहैं।प्रथमदृष्टयामामलेमेंलकड़ीकीतस्करीकेतारबाहरीराज्योंसम,उड़ीसासेजुड़नेकीआशंकाजताईजारहीहै।जहांइसलकड़ीकामंहगीसामग्रियोंकेइस्तेमालमेंउपयोगहोनेकाअनुमानजतायाजारहाहै।

ग्रामीणोंनेदिखाईजागरूकता

ग्रामीणोंनेआरीकीआवाजसुनतेहीबीटगार्डबलबंतसिंहकोसूचनादीकिजंगलमेअवैधकटानहोरहाहै।बीटगार्डनेसूचनामिलतेहीग्रामीणोंकेसाथरातकोदबिशदी,जहांतस्‍करघटनास्थलसेफरारहोगएथे।

ऐसेहोतीहैंतस्करी

बेशकीमतीलकड़ियांखनोर,मैपलकेपेड़ोंकोतस्करोंद्वाराबड़ीसफाईसेकाटाजाताहै।पेड़ोंकोबीचोंबीचआरीसेकाटनेकेबादउसकेमोटेभागकीछालकोनिकालदेतेहै।उसकेबादअंदरमौजूदभागकोनिकाललेतेहैं।उसकेछोटे-छोटेटुकड़ेकरकेबैगवसूटकेशमेंभरकररातोंरातखेपसीमासेपारपहुंचानेकेजुगाड़मेंलगजातेहैं।मामलेमेंइनतस्करोंकोलोकलवनकाटुओंकीशयमिलनेकाभीअनुमानजतायागया।

वनविभागकीटीमछानरहीजंगल

डीएफओनाचनतीर्थराजधीमाननेमामलेकीपुष्टिकरतेहुएबतायाकिबखारीकेजंगलमेंकुछअज्ञातलोगोंनेखनोरतथामैपलकेपेडोंकोक्षतिपहुंचाईहै।वनविभागनेमौकेसेतीनबड़ेबैग,तीनपैट्रोलकीबोतलें,कुल्हाड़ीतथापैट्रोलीआरीसमेत12लकड़ीकेपीसबरामदकरअपनेकब्जेमेंलेलिएहैं।वनविभागकीटीमजंगलकोछानरहीहैकिकहींअन्यपेड़ोंकोभीनुकसानतोनहींपहुंचायागयाहै।रिपोर्टकेबादपुलिसमेंमामलादर्जकियाजाएगा।विभागमामलेकीछानबीनमेंजुटगयाहै।

By Douglas