नईदिल्ली,लाइफस्टाइलडेस्क।ImportanceOfSandhyaArti:दुर्गापूजाभारतमेंहिन्दुओंकेसबसेमहत्वपूर्णत्योहारोंमेंसेएकहैजिसेपूरेदेशमेंबड़ेउत्साहकेसाथमनायाजाताहै।यहत्यौहारनवरात्रिकेदौरान9दिनोंकेलिएमनायाजाताहै।नवरात्रिकेछठेदिनसेलेकरनौवेंदिनतकमांदुर्गाकेविशालपंडालदर्शनार्थियोंकेलिएखुलेरहतेहैं।नवरात्रिकेदसवेंदिनकोविजयदशमीकहाजाताहैऔरइसदिनमांदुर्गाकीमूर्तियोंकोपानीमेंउताराजाताहै।इसपूरीप्रक्रियाकोविसर्जनकहाजाताहै।इससाल2019मेंदशमी8अक्टूबरकोपड़रहीहै।

षष्ठीसेलेकरनवमीतकदुर्गापूजाकेदौरानकोलकाताकीसड़कोंपरलोगोंकाहुजूमदेखनेकोमिलताहैजोएकपंडालसेदूसरेपंडालकेदर्शनकरतेदिखतेहैं।बंगालमेंदुर्गापूजाकाएकअलगहीमहत्वहै।वहांकेलोगइसत्योहारकासालभीबेसब्रीसेइंतज़ारकरतेहैं।इसदौराननए-नएकपड़ेपहनतेहैंऔरसजतेसंवरतेहैं।दुर्गापूजाकेदौरानकईचीज़ोंकाअपनाअलगहीमहत्वहोताहै।उनमेंसेएकहैसंध्याआरती।

अष्टमीकामहत्व:कोलकातामेंअष्टमीकेदिनअष्टमीपुष्पांजलिकात्योहारमनायाजाताहै।इसदिनसभीलोगदुर्गाकोफूलअर्पितकरतेहैं।इसेमांदुर्गाकोपुष्पांजलिअर्पितकरनाकहाजाताहै।बंगालीचाहेकिसीभीकोनेमेंरहे,परअष्टमीकेदिनसुबह-सुबहउठकरदुर्गाकोफूलजरूरअर्पितकरतेहैं।

क्याहोताहैसंध्याआरती

संध्याआरतीकाइसदौरानखासमहत्वहै।कोलकातामेंसंध्याआरतीकीरौनकइतनीचमकदारऔरखूबसूरतहोतीहैकिलोगइसेदेखनेदूर-दूरसेयहांपहुंचतेहैं।बंगालीपारंपरिकपरिधानोंमेंसजे-धजेलोगइसपूजाकीभव्यताऔरसुंदरताऔरबढ़ादेतेहैं।चारोंओरउत्सवकामाहौलसमांबांधदेताहै।संध्याआरतीनौदिनोंतकचलनेवालेत्योहारकेदौरानरोजशामकोकीजातीहै।संगीत,शंख,ढोल,नगाड़ों,घंटियोंऔरनाच-गानेकेबीचसंध्याआरतीकीरस्मपूरीकीजातीहै।

By Duffy