खगडि़या।नेपालकेजलग्रहणक्षेत्रसेलगातारपानीछोड़ेजानेसेएकतरफखगड़ियामेंकोसीऔरबागमतीउफानाईहुईहै,दूसरीतरफयहांबारिशनहींहोनेसेसूखेकीस्थितिबनगईहै।खासकरजिलेकेबेलदौरमेंजहांतीनहजारहेक्टेयरभूमिमेंधानकीखेतीहोतीहैवहांकिसानहताशहैं।सूखाड़कहरबरपारहाहै।सैकड़ोंएकड़मेंलगाबिचड़ासूखरहाहै।ऐसातबहैजबयहांतीननहरेंभीहैं।

यूंतोइसइलाकेकीमुख्यफसलमकईहै,परधानभीदूसरीमुख्यफसलहै।नदियोंकेनैहरकहेजानेवालेखगड़ियाकीनदियांलबालबहैं,परयहांनहरोंमेंपानीनहींछोड़ेजानेसेलोगखेतीइंद्रदेवकीकृपापरनिर्भरहैं।क्षेत्रकीतीननहरेंबेकारपड़ीहैं।मालीनहरकाअस्तित्वहीखतरेमेंहै।दिघौननहरमेंपानीहीनहींहै।यहीहालबेलदौर-पनसलवाप्रशाखानहरकीहै।बारिशकीकमीऔरप्रखंडमेंएकभीसरकारीनलकूपनहींरहनेसेकिसानोंकीपरेशानीबढ़गईहै।किसाननिजीपंपसेटसेमहंगेदरपरधानकीरोपणीकरनेकीकोशिशकररहेहैं।

क्याकहतेहैंकिसान

धड़क्का¨सहबासाकेसुरेश¨सहनेकहाकिखेतमेंबिचड़ातैयारहै।परबारिशनहींहोरहीहै।लगताहैपंपसेटचलाकरधानकीरोपाईकरनीहोगी।परेशानीयहकिपंपसेटवाले150रुपयेघंटेकीमांगकरतेहैं।मुरलीकेसंतोषयादवनेकहाकिइंद्रदेवनाराजचलरहेहैं।बारिशनहींहोनेसेबिचड़ासूखनेकीनौबतआरहीहै।क्याकरें!कुछसमझमेंनहींआता।दिघौनकेतवरेजआलमनेबतायाकिकदवाकरनेकेबादहीधानकीरोपनीकीजातीहै।लेकिन¨सचाईकाएकमात्रसहारापंपसेटहीहै।जिससे¨सचाईमहंगीहै।

महंगीहैपंपसेटसेसिंचाई

एकबीघेधानकीखेतीकोरोपणीकेलायकबनानेआठसेदसघंटेपंपसेटचलानापड़ताहै।ऐसेमेंएकबीघेकी¨सचाईमें12से15सौरुपयेपड़तेहैं।

किसानोंकेलिए¨सचाईकीसमस्याबनीहुईहै।नहरकोदुरुस्तकरनेकोलेकरवरीयअधिकारियोंकोलिखाजाएगा।

अभिमन्युकुमार¨सह

प्रखंडकृषिपदाधिकारी

नहरमेंपानीछोड़दियागयाहै।25जुलाईसेपूर्वनहरपानीसेलबालबहोजाएगा।वहींकुछछहर-नालाकोजल्दसेजल्ददुरुस्तकरानेकाप्रयासकियाजारहाहै।ताकिनहरकापानीआसानीसेखेतोंतकपहुंचसके।

कनीयअभियंता,¨सचाईविभाग,मुरलीगंज

By Dunn