जागरणसंवाददाता,पिथौरागढ़:भारत,नेपालसीमापरमाहवारीकेदौरानछात्राओंकेमार्गमेंमंदिरहोनेकेकारणविद्यालयजानेसेरोककेबादसुर्खियोंमेंआएक्षेत्रमेंआजभीकईपरंपराएंजड़जमाएहैं।भौंरा,रावतगड़ा,सल्लाजैसेगांवोंमेंमकानोंकेदुमंजिलेमेंचारपाईलगाकरसोनेपरप्रतिबंधहै।आजभीइनगावोंकेदुमंजिलेमेंलोगचारपाईपरनहींसोतेहैं।नाते,रिश्तेदारोंकोभीआनेपरदुमंजिलेमेंजमीनपरहीबिस्तरलगाकरसुलायाजाताहै।इसक्षेत्रमेंपरंपराएंऔररुढि़यांआजभीजड़जमाएहैं।जहांयुवतियोंऔरमहिलाओंकोमाहवारीकेदौरानतमामतरहकीदिक्कतेंझेलनीपड़तीहैं।छात्राएंविद्यालयनहींजापातीहैं।पंचेश्वरपुलपरआवाजाहीनहींकरसकतीहैं।दूसरीतरफआमलोगोंपरभीप्रतिबंधहैं।जिसकाजीताजागताउदाहरणगांवोंकेदुमंजिलेमेंबिनाचारपाईकेसोनापड़ताहै।रावतगड़ा,सल्लाऔरभौंरागांवोंमेंदुमंजिलेमेंचारपाईलगानेपरप्रतिबंधहै।परिवारसहितनाते,रिश्तेदारोंकोभीदुमंजिलेमेंचारपाईपरसोनानसीबनहींहोताहै।इसीतरहघरकेआंगनवअन्यस्थानपरभीऊंचाईपरबैठनेकाप्रावधाननहींहै।सेलगांवमेंआसपासकेकुछगांवोंसेआनेवालोंकोआंगनमेंदीवार,चारपाईऔरकुर्सीपरनहींबैठायाजाताहै।जमीनपरदरी,चटाईपरहीबैठायाजाताहै।चारपाईलगानेपरलगताहैऔलादुमंजिलेपरचारपाईलगानायाफिरआंगनमेंऊंचाईपरबैठनेकेपीछेस्थानीयभाषामेंऔलाबाधकहै।औलाकाअर्थअपशकुनहै।जोसीधेदेवतासेजुड़ाबतायाजाताहै।ऊंचाईपरसोनेऔरऊंचाईपरबैठनेकोसदियोंसेचलीआरहीपरंपराकापालननहींहोनेपरकिसीतरहकेऔला(अपशकुन)कीआशंकाजताईजातीहै।इसक्षेत्रकेभौंरागांवनिवासीजिलामुख्यालयमेंपत्रकारितासेजुड़ेयुवामनोजचंदबतातेहैंकियहपरंपरासदियोंसेचलीआरहीहै।आजभीलोगबदस्तूरमानरहेहैं।उनकेअनुसारअबइसपरंपरामेंबदलावलानेचाहिए।दुनियाकहांपहुंचचुकीहैइसेदेखकरआगेआनाहोगा।

By Ellis