जागरणसंवाददाता,गया।लाखकोशिशकेबावजूदजिलेमेंछहदर्जनसेअधिकस्कूलोंकोआजतकरास्तानसीबनहींहोसकाहै।खेतबीचबनेस्कूलभवनमेंबच्चेमेढ़केसहारेपढऩेजानेकोविवशहैं।जिलाप्रशासनवशिक्षाविभागइनविद्यालयोंकोरास्तामुहैयाकरानेमेंनाकामरहाहै।सबसेअधिकबरसातकेमौसममेंबच्चोंकोपढऩेजानेमेंकठिनाइयोंकासामनाकरनापड़ताहै।

बारिशवसिंचाईकीपानीसेस्कूलपरिसरघिरेजातेहैं,जिसकारणबच्चोंकोजान-जोखिममेंडालपढऩेजानापड़ताहै।धानकीफसलबर्बादनहो,इसेलेकिसानखेतकीकटीलेतारसेघेराबंदीकरदिएहैं।आजस्थितियहहोगईहैकिकईविद्यालयकेरास्तेबंदहोगएहैं।

भूमिहीनस्कूलोंकोजमीनउपलब्धकरानेकीयोजनाभीसाकारनहींहोसकीहै।भूमिकेअभावमें122विद्यालयोंकेपासअपनाभवननहींहै।जिसेभवनवालेसमीपकेविद्यालयमेंमर्जकरनेकाप्रस्तावछहमाहपूर्वहीविभागकोभेजाजाचुकाहै,जिसपरमुहरलगनीबाकीहै।जिसेभवननसीबहोसकाहै,उसमेंसे76केपासरास्ताउपलब्धनहींहै।

रास्ताकीमांगकोलेविद्यालयप्रबंधनगुहारलगातेलगातेथकचुकेहैं।फिरइससमस्याकानिदाननहींनिकलसकाहै।राहतइसबातहैकिफिलहालकोरोनामहामारीकेकारणस्कूलोंकोशिक्षणकार्यकेलिएबंदकियागयाहै।परंतुशिक्षकोंकोइसविकटसमस्यासेआएदिनदो-चारहोनापड़रहाहै।कोचसप्रखंडकेमध्यविद्यालयदैदहांजैसेकईऐसेस्कूलहैं,जहांपरजानेकेलिएकोईरास्तानहींहै।

इससंबंधमेंडीपीओसमग्रशिक्षाराघवेंद्रप्रतापसिंहनेकहाकिजमीनउपलब्धकरानेकीजिम्मेदारीराजस्वकीहै।वस्तुस्थितिसेजिलाप्रशासनकोअवगतकरादियागयाहै।हालांकि,अबतकसमस्‍याकानिदाननहींहोसकाहै।

By Doyle