जेएनएन,बिजनौर।सर्वांगीणविकासकेलिएशिक्षाहीएकअच्छामाध्यमहै।गरीबीकेसाथमजबूरीहोतोशिक्षाकाफीबच्चोंसेदूरहोजातीहै।धूलकेफूलबनकररहनेवालीइनछात्राओंकेआकांक्षाचौहानसहाराबनीहै।आकांक्षाचौहाननेअनेकबेटियोंकास्कूलमेंप्रवेशकराकरउन्हेंशिक्षाकीमुख्यधारासेजोड़रहीहै।उन्होंनेइसेअपनामकसदबनालियाहैऔरबेटियोंकोशिक्षाकेसाथजरूरतमंदपरिवारोंकीबेटियोंकीशादीमेंआर्थिकमददकरतीहैं।

गांवरामौरूपपुरनिवासीआकांक्षाचौहानघरेलूमहिलाहैं,लेकिनशिक्षाकीज्योतहरओरजलानेकेलिएवहअग्रसरहैं।पारिवारिकजिम्मेदारियोंकेसाथसमाजसेवामेंभीबढ़चढ़करहिस्सालेतीहै।वहगरीबबेटियोंकेलिएकुछकरनेकाजज्बालेकरआगेचलपड़ीहैं।उनकापरिवारभीउनकीमददकरताहै।वहअपनेस्कूलमेंकरीब70बेटियोंकोबिनाफीसआदिकेशिक्षादिलारहीहै।जोआर्थिककेअंधेरेमेंशिक्षाकीसीढि़यांचढ़नेमेंअसमर्थहैं।आकांक्षानेबतायाकिउनकेइसकार्यमेंहमेशासेहीपतिएवंपरिवारकासहयोगपूरामिलताहै।शिक्षाकेसाथ-साथवहउनपरिवारोंकाभीसहयोगकरतीहैं,जिनकीबेटियोंकीशादीकरनेमेंआर्थिकस्थितिसामनेआतीहै।उनकीशादीकेलिएआर्थिकसहयोगदेतीहैं।साथहीबेटियोंकोस्वावलंबीबनानेकेलिएकामकरनेकेसाथसामाजिककार्योंमेंबढ़चढ़करहिस्सालेतीहैं।उन्होंनेअनेकलड़कियोंकोशिक्षाकाज्ञानदियातथाउन्हेंस्वावलंबीबननेमेंमददकी।उनकेइसकार्यमेंउनसेज्ञानप्राप्तकरनेवालीकईलड़कियांभीसहयोगकररहीहैं।