जागरणसंवाददाता,गया।अभीतकसीआरपीएफवकोबराकेजवानआंतरिकऔरवाह्यसुरक्षाकेलिएजानेजातेथे,लेकिनअबवेअपनीमाटीऔरपर्यावरणकेप्रतिसजगहैं।सीआरपीएफकेजवानजिसमिट्टीपरपले-बढ़े,पढ़े-लिखेऔरबड़ेहोकरदेशसेवाकररहे,उसभारतमाताकोहरा-भराबनानेकाबीड़ाउठायाहै।इसीकेतहतकोने-कोनेकोहरा-भराकियाजारहाहै।धरतीकोसुंदर,स्वच्छऔरआकर्षकबनानेकेलिएजवानलगातारपौधारोपणकार्यक्रमचलारहेहैं।जवानअपनेमुख्यालय,कैंप,आवासीयक्षेत्रोंमेंभीपौधेलगाकरहरा-भराकरनेमेंजुटेहैं।

सीआरपीएफनेअकेलेगयाजिलेकीचारलाखवर्गफीटभूमिपर46हजार200पौधेलगाएहैं।यहएककीर्तिमानहै।जवानसिर्फपौधेलगानेतकसीमितनहींहैं,बल्किउसेसंरक्षितकरनेकीदिशामेंभीकामकररहेहैं,ताकिवातावरणमेंप्रचुरमात्रामेंआक्सीजनबनीरहेऔरस्वच्छहवामिलसके।नक्सलप्रभावितक्षेत्रोंकेपहाड़,पर्वत,पठार,तटबंध,आमरास्ता,सड़ककेकिनारे,स्कूल,कालेजवसार्वजनिकस्थलोंपरजवानोंनेअपनापसीनाबहापौधेलगाएहैं।

एक-एकपौधेकोसंरक्षितकरदेंगेनईपीढिय़ोंकोसौगात

जवानकहतेहैं,एक-एकपौधामानवजीवनकेलिएमूल्यवानहै।पेड़केनीचेकईकुओंकापानीसंरक्षितरहताहै,ताकिजिसस्थलपरपौधेसेपेड़तैयारबनताहै,वहांपरजलस्तरभीबनारहताहै।यहीनहीं,वृक्षछायादारहोनेकेसाथहीलोगोंकोगर्मीकेमौसममेंराहतदेनेकाकामकरतेहैं।

सीआरपीएफवकोबराकीपहलसेहरीहोरहीधरती

विगतकईवर्षोसेसीआरपीएफकेजवानलगातारपौधारोपणकररहेहैं।वेडयूटीकरतेहुए159वींमुख्यालयकैंप,बाराचट्टीकैंप,इमामगंज,डुमरिया,सवेरा,बांकेबाजारआदिकैंपोंमेंपौधालगारहेहैं।इसमेंछायादारपौधोंकेसाथफलदारपौधेभीलगेहैं।जवानोंकायहएकअनोखाप्रयासहै,जोसीधेतौरपरधरतीमातासेजोड़ताहै।इसीतरहकोबरा,सीआइएसएफ,एसएसबीसहितअन्यसुरक्षाबलद्वाराबड़ेपैमानेपरपौधारोपणकररहेहैं।इसकाप्रतिफलआनेवालेवर्षोंमेंगयाकीधरतीपरदिखाईदेगी।

कौन-कौनसेलगाएगएपौधे

कैंपवपहाड़ीक्षेत्रोंमेंआम,अमरूद,कटहल,जामुन,नीम,पीपल,शीशम,अशोक,इमली,बरगद,महुआ,गुलमोहर,पपीता,अर्जुन,सीताफल,बबूल,गोमरी,कदम,कंचन,नींबू,सागवान,अनारवसलैया।

यहांहुआपौधारोपण

सीआरपीएफवकोबराकेअधिकारीवजवानोंनेसलैया,इमामगंज,डुमरिया,छकरबंधा,सेबरा,लुटुआ,मुख्यालयगयाव205कोबराबरवाडीह।

कमांडेंटनि‍शीतकुमारनेकहाकिसीआरपीएफकीओरसेसामूहिकप्रयाससेनक्सलऔरगयामुख्यालयमेंलगातारपौधारोपणकरधरतीकोहरा-भराकियाजारहाहै।विगतदोसालमेंकरीब47हजारपौधेलगाएगएहैं।पौधारोपणकाकार्यक्रमआगेभीजारीरहेगा।

By Douglas