गुवाहाटी।असममेंसोमवारकोनेशनलरजिस्‍टरऑफसिटीजंसयानीएनआरसीड्राफ्टरिलीजकरदियागयाहै।इसड्राफ्टकेमुताबिकदोकरोड़89लाखलोगभारतीयनागरिकहैंतोवहींकरीब40लाखलोगऐसेहैंजोभारतकेनागरिकनहींहैं।असमकीकुलजनसंख्‍यातीनकरोड़29लाखहै।एनआरसीमेंउनसभीभारतीयनागरिकोंकेनामोंकोशामिलकियाजाएगाजो25मार्च,1971सेपहलेसेअसममेंरहरहेहैं।

सोशलमीडियापरकड़ीनजर

असमपुलिसकीओरसेसुरक्षाकेमद्देनजरसोशलमीडियापरकड़ीनजररखीजारहीहैजिससेफेकन्‍यूजयाफिरकिसीतरहकेहेटमैसेजकोफैलनेसेरोकाजासके।इसकेअलावाकम्‍यूनिटीप्रोग्राम्‍सचलाएजारहेहैंताकिकिसीभीतरहकीगलतफहमीसेबचाजासके।एकसीनियरपुलिसऑफिसरकीओरसेइसबातकीपुष्टिकीगईहै।एनआरसीकेपहलेड्राफ्टको31दिसंबर2017औरइसवर्षएकजनवरीकोजारीकियागयाथा।उसड्राफ्टमेंकुलजनसंख्‍याके1.9करोड़लोगोंकेनामथे।एनआरसीकोदेखतेहुएराज्यभरमेंसुरक्षाकेसख्तइतंजामकिएगएहैं।सुरक्षाबलोंकी220टुकड़ियांतैनातकीगईहै।

पहले30जूनकोजारीहोनीथीलिस्‍ट

सुप्रीमकोर्टनेपहलेइसड्राफ्टकोपब्लिशकरनेकेलिए30जूनकीडेडलाइनतयकीथी।लेकिनइसेआगेबढ़ादियागयाक्‍योंकिलिस्‍टउससमयपूरीनहींहोसकीथी।असममेंकरीब2,500एनआरसीसेवाकेंद्रबनाएगएहैंजहांपरलोगअपनानामचेककरसकतेहैं।गृहमंत्रीराजनाथसिंहनेइसरिपोर्टपरकहाहैकिकुछलोगजानबूझकरडरकामाहौलबनानेकीकोशिशकररहेहैं।इसरिपोर्टकोबिनापक्षपातऔरभेदभावकेतौरकियागयाहै।किसीभीतरहकीकोईगलतजानकारीकिसीभीनहींफैलानीचाहिए।उन्‍होंनेकहाकियहएकड्राफ्टहैऔरकोईफाइनललिस्‍टनहींहै।

By Ellis