नईदिल्ली,प्रेट्र।एशियनगेम्समेंस्वर्णपदकजीतनेवालीभारतकीपहलीमहिलानिशानेबाजराहीसरनोबतकोलगताहैकिएकदशकसेज्यादासमयतकशीर्षस्तरकीप्रतियोगिताओंमेंभागलेनेकेबावजूदवहवित्तीयरूपसेसुरक्षितनहींहैं।महाराष्ट्रकेकोल्हापुरकीइस28वर्षीयपिस्टलनिशानेबाजकोलगताहैकिइतनेसमयकीमेहनतकेबादउन्हेंवित्तीयरूपसेमजबूतहोजानाचाहिएथालेकिनऐसानहींहै।

एशियनगेम्सकेस्वर्णपदकसेउन्हें70लाखरुपये(महाराष्ट्रसरकारसे50लाखरुपयेऔरखेलमंत्रालयसे20लाखरुपये)काइनाममिला,लेकिनशीर्षस्तरकेनिशानेबाजकाखर्चाकाफीरहताहैऔरउन्होंनेइसमेंसेअपनेव्यक्तिगतकोचमुंखबायरदोर्जसुरेनकोभीकुछहिस्सादिया,जोपूर्वओलंपिकपदकधारीऔरमंगोलियाकेविश्वचैंपियनहैं,परअभीवहजर्मनीकेनागरिकहैं।वहउन्हेंहरसालकरीब50लाखरुपयेदेतीहैंऔरनहींजानतींकिकबतकवहउन्हेंअपनीजेबसेयहराशिदेपाएंगी।लेकिन,वह2020टोक्योओलंपिककेलिएअपनीट्रेनिंगसेजराभीसमझौतानहींकरनाचाहतीं।ओजीक्यूराहीकाप्रायोजकहैऔरवहअपनेराज्यकेराजस्वविभागमेंडिप्टीकलेक्टरहैंलेकिनअपनीखेलप्रतिबद्धताओंकेकारणसितंबर2017सेवहबिनावेतनकेचलरहीहैं।उन्होंनेकहाकिमुझेलगताहैकिपेशवरनिशानेबाजकेतौरपरमेरेपासचारसालसेज्यादाकासमयनहींहैऔरभारतकेलिए12सालतकखेलनेकेबावजूदभीमेरेवित्तीयहालतइतनेअच्छेनहींहै।

उन्होंनेकहाकिमैंनेराज्यकेराजस्वविभागसेबिनावेतनकेछुट्टीलीहुईहै।मुझेसितंबर2017सेवेतननहींमिलाहै।मैंनेअपनेनियोक्तासेमुंबईजाकरबातकरनेकेबारेमेंसोचालेकिनपेशेवरनिशानेबाजकेतौरपरसमयनिकालनाकाफीमुश्किलहै।हमारेलगातारटूर्नामेंटहैंऔरअगरटूर्नामेंटनहींहोंतोहमट्रेनिंगमेंव्यस्तरहतेहैं।मैंभीज्यादाप्रायोजकचाहतीहूंलेकिनइसप्रक्रियासेवाकिफनहींहूं।

क्रिकेटकीखबरोंकेलिएयहांक्लिककरें

By Farmer