नईदिल्लीसरकारनेशुक्रवारकोकहाकि1965और1971युद्धमेंलापता54सैनिकोंकेबारेमेंसमझाजाताहैकिवेपाकिस्तानकीहिरासतमेंहैं।लोकसभामेंएकप्रश्नकेलिखितउत्तरमेंरक्षामंत्रीमनोहरपर्रिकरनेकहाकिसरकारनेलापतारक्षाकर्मियोंकोरिहाकरनेकेमुद्देकोबार-बारपाकिस्तानकेसमक्षउठायाहै,जिनकेबारेमेंसमझाजाताहैकिवेपाकिस्तानकीहिरासतमेंहैं।उन्होंनेकहा,'हालांकिपाकिस्तानऐसेकिसीकर्मीकोअपनेहिरासतमेंहोनेकीबातस्वीकारनहींकरताहै।'मंत्रीनेकहाकिलापतारक्षाकर्मियोंके14रिश्तेदारोंकेएकशिष्टमंडलनेएकसे14जून2007कोपाकिस्तानकी10जेलोंकादौराकियाथा,लेकिनवहलापतारक्षाकर्मियोंकीमौजूदगीकीसमग्रपुष्टिनहींकरपाया।उन्होंनेकहाकिलापतारक्षाकर्मियोंकेपरिवारकोनियमोंकेअनुरूपपेंशनएवंपुनर्वासलाभदिएजारहेहैं।पिछलेतीनसालमें20लड़ाकूविमानक्रैशपिछलेतीनसालोंमेंभारतीयवायुसेनाके3सुखोईविमानसहित20लड़ाकूविमानदुर्घटनाग्रस्तहुएहैं।लोकसभामेंएकप्रश्नकेलिखितउत्तरमेंरक्षामंत्रीमनोहरपर्रिकरनेकहाकिइनदुर्घटनाओंमेंवायुसेनाकेदोकर्मियोंकीमौतहुई।सरकारीआंकड़ोंकेमुताबिक,2014-15मेंसबसेअधिकसंख्यामेंदुर्घटनाएंहुईं,जिनमेंएकसुखोईविमान,चारमिगऔरदोजगुआरविमानदुर्घटनाग्रस्तहुएहैं।2013-14मेंछहदुर्घटनाओंमेंपांचमिगऔरएकजगुआरविमानदुर्घटनाग्रस्तहुएथे,जबकि2012-13मेंएकसुखोई,दोमिगऔरएकजगुआरविमानदुर्घटनाग्रस्तहुएथे।पर्रिकरनेकहादुर्घटनाओंकेमुख्यकारणोंमेंतकनीकीखामीऔरमानवीयचूकशामिलहै।