जासं,कौशांबी:राष्ट्रीयखादसुरक्षामिशनकेतहतकिसानोंकोधानबीजखरीदअनुदानदेनेकीव्यवस्थाहै।इसकेतहतकिसानोंनेपांचमाहपूर्वधानकेबीजखरीदेथेलेकिनअनुदानकीराशिकेलिएकृषिकार्यालयमेंअभिलेखभीजमाकिए।इसकेबादभी152किसानोंकोबीजखरीदकाअनुदाननहींमिलसकाजिसकीवजहसेउन्हेंपरेशानीहोरहीहै।

जूनमेंकिसानोंनेकृषिविभागमेंऑनलाइनपंजीयनकराकरधानकेबीजखरीदेथे।किसानोंकीमानेंतोकरीबपांचलाखरुपयेकाभुगतानकृषिविभागनहींकरपारहाहै।मंझनपुरतहसीलक्षेत्रकेडांडीगांवनिवासीअनूप¨सहनेबतायाकिजूनमेंधानकेबीजखरीदनेकेबादडीडीकृषिकार्यालयमेंबिलवअन्यअभिलेखजमाकिएथेपरंतुअबतक3000रुपयेकाअनुदाननहींमिला।इसीप्रकारविकासखंडकौशांबीकेबाबापूरागांवकेवीरेंद्रकुमारको1800रुपये,मुस्तफाबादगांवकेअर्जुनयादवको1800रुपयेवमंझनपुरकेब्रजभूषणको2400रुपयेकाअनुदाननहींमिलसका।इसकेअलावाभीकईकिसानोंकोबीजखरीदअनुदानकीदरकारहै।राष्ट्रीयखादसुरक्षामिशनकेतहतलगभग151किसानोंकोधानबीजखरीदअनुदानदेनाशेषहै।धनाभावमेंअनुदाननहींदियाजासकाहै।शासनसेपांचलाखरुपयेकीमांगकीगईहै।धनमिलनेकेबादसंबंधितकिसानोंकेखातेमेंधनराशिभेजदीजाएगी।

-उदयभान¨सह,कृषिउपनिदेशककृषि।