संवादसहयोगी,कोटद्वार

एकतरफजहांप्रदेशसरकारसरकारीविद्यालयोंमेंछात्रसंख्याबढ़ानेकेलिएतरह-तरहकीयोजनाएंचलारहीहै,वहींप्रखंडरिखणीखालकेअंतर्गतआनेवालेप्राथमिकविद्यालयद्वारीमेंछात्रोंकेलिएमिड-डे-मीलबनानेकापानीभीउपब्लधनहींहोपारहाहै।हालातयहहैंकिभोजनमाताकोहररोजचारकिलोमीटरदूरप्राकृतिकस्त्रोतोंसेपानीलानापड़ताहै।

सुप्रीमकोर्टकाआदेशहैकिदेशकेप्रत्येकविद्यालयमेंपानीवशौचालयकीबेहतरव्यवस्थाहोनीचाहिए,बावजूदइसकेरिखणीखालकेद्वारीमेंस्थितप्राथमिकविद्यालयकीओरशासन-प्रशासनकाध्याननहींजाता।निर्माणकेकईवर्षोबादभीविद्यालयपानीकाकनेक्शननहींलगवायागया,जिससेप्यासलगनेपरस्कूलमेंपढ़नेवालेछात्रवअन्यस्टाफपरेशानहोजातेहैं।स्थितियहहैकिकईबारपानीकेअभावमेंबच्चोंकोदोपहरकाभोजनभीनहींमिलपाता।

कुछसालपहलेप्रशासनकीओरसेविद्यालयपरिसरमेंएकरैनवॉटरसेविगटैंककानिर्माणकरवायागयाथा,जिसमेंबरसातकापानीजमाहोताहै,लेकिनकुछसमयबादहीपानीमेंकीड़ेपड़नेशुरूहोजातेहैं।ऐसेमेंबच्चोंकोसंक्रामकबीमारियोंकेफैलनेकाखतराबनारहताहै।स्थानीयग्रामीणइससंबंधमेंकईबारशासन-प्रशासनसेशिकायतभीकरचुकेहैं,लेकिनअबतकइसओरध्याननहींदियागया।प्रत्येकचुनावमेंउठताहैमुद्दा

विद्यालयपरिसरमेंपानीकाकनेक्शनलगानेकामुद्दाग्रामीणप्रत्येकचुनावमेंउठातेहैं।साथहीजनप्रतिनिधिजीतनेकेबादतुरंतकनेक्शनदिलवानेकाभीआश्वासनदेतेहैं,लेकिनजीतनेकेबादवहअपनावादाभूलजातेहैं।इसस्थितिमेंग्रामीणोंकाजनप्रतिनिधियोंसेभीभरोसाउठताजारहाहै।

स्कूलमेंपानीकेलिएप्रतिदिनभोजनमाताकोदो-तीनकिमी.कीदौड़लगानीपड़तीहै।कईमर्तबाजलसंस्थानकोगांवमेंपेयजलकनेक्शनकेलिएकहागया,लेकिनकोईफायदानहींहुआ।गर्मियोंमेंस्थितियांऔरअधिकबिगड़जातीहैं।..शर्मिलीदेवी,ग्रामप्रधान,द्वारी

By Elliott