अदितिज्ञानेश,बेंगलुरुजेईईअडवांस्डमें807वींरैंकहासिलकरनेवाले18वर्षकेवीरेशएसकीकहानीआपकोप्रेरितकरेगी।वीरेशकाजन्मबेंगलुरुकेएकपार्कमेंबनीछोटी-सीझोपड़ीमेंहुआ,वहवहींपले-बढ़े।दिहाड़ीमजदूरकेबेटेवीरेशकहतेहैंकिवहपढ़-लिखकरपैसेकमानाचाहतेहैं,ताकि5लोगोंकेपरिवारकोपालनेकेलिएउनकीमांकोकंस्ट्रक्शनसाइटोंपरकामनकरनापड़े।वहअपनेआंसूनहींरोकपाएऔरबोले,'अबमेरीबारीहै।'वीरेशनेटिनकीछतऔरप्लास्टिककीशीटोंपरबैठकरपढ़ाईकीऔरयहांतकपहुंचे।उन्हेंउम्मीदहैकिआईआईटीबॉम्बेयाआईआईटीमद्रासमेंउन्हेंजगहमिलेगी।वहरीसर्चफील्डमेंजानेसेपहलेफिजिक्समेंपढ़ाईकरनाचाहतेहैं।पहलीबारमेंसफलतानमिलनेपरवीरेशनिराशनहींहुएऔरदूसरीकोशिशमेंउनकीमेहनतरंगलाई,वहपासहोगए।वीरेशकहतेहैं,'मैंकहीभीजाऊं,कितनाभीकमाऊंलेकिनइसजगहकोनहींछोड़ूंगा।इसजगहसेमेरीबहुत-सीखूबसूरतयादेंजुड़ीहैं।'दक्षिणीबेंगलुरुकेबासवानागुड़ीकेएमएनकृष्णापार्कमेंवहअपनेमां-बापऔरभाइयोंकेसाथरहतेहैं।वीरेशकेमाता-पितावहां21वर्षोंसेरहतेहैंऔरवह18सालसे।उनकेदोछोटेभाईहैं।उनकेमां-बापनेअपनेबच्चोंकोपढ़ाईकेलिएसभीसुविधाएंमुहैयाकरवाईं।वीरेशनेकभीउन्हेंनिराशनहींकिया।इसखबरकोअंग्रेजीमेंपढ़ें

By Doherty