सतीशकुमार,होशियारपुर:कोरोनावायरसनेजहांआमव्यक्तिकीजिदगीकीरफ्तारकोरोकदियाहै,वहींव्यक्तिअबआगेजानेकेलिएहजारबारसोचरहाहैकिअबवहपहलेजैसेदिनआएंगेभीयानहीं।कोरोनाकेकारणजहांलोगोंकाकारोबारपूरीतरहसेडगमगागयाहै,वहींकिसानोंकोभीउनकीफसलकापूरामूल्यनहीमिलरहाहै।ऐसेमेंपंजाबमेंकुछव्यक्तिजोलंबेसमयसेफूलोंकीखेतीकरकेअपनेपरिवारकापालन-पोषणकररहेथे,पिछलेतीनमाहसेपूरीतरहसेबंदकारोबारकेचलतेबेकारबैठेहैं।फूलोंकीखेतीकररहेबस्सीकिकरांकेकिसानजतिद्रकुमारकहतेहैंकिवहपिछलेसातसालसेफूलोंकीखेतीकररहेहैं।वहमुलरूपसेउत्तरप्रदेशकेमुरादाबादकेरहनेवालेहैं।उन्होंनेबतायाकिवहयहांपर12कनालजमीनपरफूलोंकीखेतीकररहेहै।इनमेंवहवहमैरीगोल्ड,

जाफरनऔरगेंदेकेफूलोंकीखेतीकरतेहै।फूलोंकीसप्लाईहोशियारपुरकेसाथजालंधर,लुधियाना,दसूहाऔरचितप‌रू्णीतकहोतीहै,मगरजबसेकोरोनावायरसशुरूहुआहै,फूलोंकाव्यापारपूरीतरहसेखत्महोगयाहै।उन्होंनेबतायाकिफरवरीमाहमेंफूलोंकीफसलपूरीतरहसेतैयारहोजातीहै।मगरमार्चमेंकोरोनावायरसनेदेशमेंदस्तकदेदी,जिससेफूलोंकीमांगबिल्कुलहीबंदहोगई।इससेउन्हेंलाखोंरुपयकानुकसानहोगयाहै।जतिद्रकुमारनेबतायाकिहालातयहहोगएहैंकिजोफूलसीजनमेंचालीससेपचासरुपयेकिलोग्रामकेहिसाबसेबिकरहेथे,उन्हेंअबदसरुपयेकेमूल्यपरभीकोईनहींखरीदरहाहै।वहींअन्यकिसानसंतवीरसिंहनेबतायाकिवहगांवमहिलावालीमेंदोएकड़मेंफूलोंकीखेतीकररहेहैं।वहगुलाबऔरजरवेराकीखेतीकरतेहैं।फरवरीतकफूलोंकीफसलपूरीतरहतैयारहोगईथी।मार्चमेंएकतोशादियोंकासीजनऔरउपरसेमाताकेनवरात्रथे।यहीसोचागयाथाकसारेखर्चनिकालकरअच्छीखासीआमदनहोजाएगी,मगरलॉकडाउनकेकारणमुनाफेकीआसलगाएवहलाखोंकेकर्जदारहोगएहैं।वहींइसबारेमेंजिलाबागवानीअफसरडाक्टरनरेशकुमारनेकहाकिशहरमेंफूलोंकीखेतीकाफीहोरहीहै।शहरकेआसपासकईकिसानदो-दोकनालमेंफूलोंकीखेतीकररहेहैं,मगरजोलोगबड़ीखेतीकररहेहैं,वहहैगांवमहिलावालीकेसंतवीरसिंहहैं।वहदोएकड़मेंफूलोंकीखेतीलंबेसमयसेकररहेहै।उनकेसाथहीहोशियारपुरकेगांवभारटागणेशपूरकेकिसानपति-पत्नीभीअपनीजमीनपरफूलोंकीखेतीकररहेहै।दोनोंपति-पत्नीदोएकड़जमीनपरफूलोंकीखेतीकररहेहैं।कोरोनाकेकारणसभीकीखेतीप्रभावितहुईहै।उम्मीदहैकिजल्दहीहालातसुधरजाएंगेऔरयहकारोबारफिरसेपटड़ीपरदौड़ेगा

ਪੰਜਾਬੀਵਿਚਖ਼ਬਰਾਂਪੜ੍ਹਨਲਈਇੱਥੇਕਲਿੱਕਕਰੋ!

By Farrell