नयीदिल्ली,दोजून(भाषा)रक्षामंत्रीराजनाथसिंहनेभारतऔरचीनकीसेनाओंकेबीचलगभगएकमहीनेसेचलेआरहेगतिरोधकेसंदर्भमेंकहाकिपूर्वीलद्दाखमेंचीनीसैनिक‘‘अच्छीखासीसंख्यामें’’आगएहैंऔरभारतनेभीस्थितिसेनिपटनेकेलिएसभीआवश्यककदमउठाएहैं।सिंहनेकहाकिभारतऔरचीनकेवरिष्ठसैन्यअधिकारियोंकेबीचछहजूनकोबैठकनिर्धारितहै।इसकेसाथहीउन्होंनेआश्वस्तकियाकिभारतअपनीस्थितिसेपीछेनहींहटेगा।पूर्वीलद्दाखमेंसंवेदनशीलक्षेत्रोंमेंवर्तमानस्थितिकेबारेमेंपूछेजानेपरउन्होंनेकहाकिचीनीवहांतकआगएहैंजिसकावेअपनाक्षेत्रहोनेकादावाकरतेहैं,जबकिभारतकामाननाहैकियहउसकाक्षेत्रहै।सिंहनेसीएनएन-न्यूज18सेकहा,‘‘उसकोलेकरएकमतभेदहुआहै।औरअच्छी-खासीसंख्यामेंचीनकेलोगभीआगएहैं।लेकिनभारतकोभीअपनीतरफसेजोकुछकरनाचाहिए,भारतनेकियाहै।’’रक्षामंत्रीकीटिप्पणियोंकोविवादितक्षेत्रोंमेंचीनीसैनिकोंकीअच्छी-खासीमौजूदगीकीपहलीआधिकारिकपुष्टिकेरूपमेंदेखाजारहाहै।इनक्षेत्रोंकेबारेमेंभारतकाकहनाहैकियेवास्तविकनियंत्रणरेखा(एलएसी)परभारतकीतरफहैं।खबरोंकेअनुसार,एलएसीपरभारतकीतरफगलवानघाटीऔरपैंगोंगत्सोक्षेत्रमेंचीनीसैनिकअच्छी-खासीसंख्यामेंडेराडालेहुएहैं।रक्षामंत्रीनेकहाकिचीनकोमुद्देपरगंभीरतासेसोचनाचाहिएजिससेकिइसकाजल्दसमाधानहोसके।एलएसीपरपूर्वीलद्दाखकेकईक्षेत्रोंमेंभारतऔरचीनकेसैनिकोंकेबीचलगभगएकमहीनेसेतनातनीचलीआरहीहै।दोनोंदेशविवादकेसमाधानकेलिएसैन्यऔरकूटनीतिकस्तरपरबातकररहेहैं।सिंहनेकहा,‘‘डोकलामविवादकासमाधानकूटनीतिकऔरसैन्यवार्ताकेमाध्यमसेहुआथा।हमनेइसतरहकीस्थितियोंकाविगतमेंभीइसीतरहकासमाधानपायाहै।मौजूदामुद्देकेसमाधानकेलिएसैन्यऔरकूटनीतिकस्तरपरबातचीतजारीहै।’’भारतकीलंबेसमयसेचलीआरहीनीतिकेबारेमेंसिंहनेकहा,‘‘भारतकिसीदेशकेगौरवकोनुकसाननहींपहुंचाताऔरसाथहीवहअपनेगौरवकोनुकसानपहुंचानेकेकिसीप्रयासकोबर्दाश्तनहींकरता।’’पैगोंगत्सोकेआसपासफिंगरइलाकेमेंएकमहत्वपूर्णसड़कनिर्माणकेअलावागलवानघाटीमेंदारबुक-शयोक-दौलतबेगओल्डीकेबीचभारतकेसड़कनिर्माणपरचीनकेकड़ेविरोधकेबादगतिरोधशुरूहुआ।चीनभीफिंगरइलाकेमेंएकसड़कबनारहाहैजोभारतकोस्वीकार्यनहींहै।सरकारीसूत्रोंनेबतायाकिभारतीयसेनानेचीनीसेनाकेआक्रामकहाव-भाववालेक्षेत्रोंमेंअपनीमौजूदगीकोमजबूतकरनेकेलिएसैनिकों,वाहनोंऔरतोपोंसहितकुमुकभेजीहैं।पूर्वीलद्दाखमेंस्थितितबबिगड़ीजबपांचमईकीशामचीनऔरभारतकेकरीब250सैनिकोंकेबीचहिंसकझड़पहोगईजोअगलेदिनभीजारीरही,जिसकेबाददोनोंपक्ष‘‘अलग’’हुए।बहरहाल,गतिरोधजारीरहा।इसीतरहकीघटनाउत्तरीसिक्किममेंनाकूलादर्रेकेपासनौमईकोभीहुईजिसमेंभारतऔरचीनकेलगभग150सैनिकआपसमेंभिड़गए।दोनोंदेशोंकेसैनिकोंकेबीच2017मेंडोकलाममें73दिनतकगतिरोधचलाथा।भारतऔरचीनकेबीच3,488किलोमीटरलंबीएलएसीपरविवादहै।चीनअरुणाचलप्रदेशपरदावाकरताहैऔरइसेदक्षिणीतिब्बतकाहिस्साबताताहै।वहीं,भारतइसेअपनाअभिन्नअंगकरारदेताहै।दोनोंपक्षकहतेरहेहैंकिसीमाविवादकेअंतिमसमाधानतकसीमावर्तीक्षेत्रोंमेंशांतिएवंस्थिरताकायमरखनाजरूरीहै।

By Farmer