नईदिल्ली[वीकेशुक्ला]। QuwwatulIslamMasjid: राजधानीदिल्लीकीकुव्वतुल-इस्लाममस्जिदकाहालबेहालहै।कुतुबमीनारपरिसरमेंस्थितइसमस्जिदकेस्तंभोंपरदेवी-देवताओंकीखंडितमूर्तियांलगीहैं।यहांतककिमस्जिदकेपिछलेहिस्सेमेंनालीकेऊपरलगीएकमूर्तिकोलेकरविवादहाेचुकाहै,जिसकेबादभारतीयपुरातत्वसर्वेक्षण(एएसआइ)नेलोहेकेजालसेमूर्तिढंकदीहै।आजभीइसमस्जिदऔरइसकेआसपासकईमूर्तियांहैं।यहांतककिइसमस्जिदकेआसपासजोभागक्षतिग्रस्तहुएहैं।उनमेंभीमूर्तियांनिकलरहीहैं।वर्तमानमेंयहांपहुंचनेवालेपर्यटकोंकेबच्चेपूछबैठतेहैंकिमस्जिदमेंमूर्तियांक्योंलगीहैं?जिसकाउससमयउनकेपासकाेईजवाबनहींहोताऔरवहयहीकरबच्चोंकोसमझातेहैंकियहसबपूर्वमेंकियागयाहै।

फिलहालयहमस्जिदभारतीयपुरातत्वसर्वेक्षणकास्मारकहै।जिसकुतुबमीनारऔरउसकेपरिसरकोविश्वधरोहरकादर्जामिलाहै।उसीपरिसरमेंयहमस्जिदशामिलहै।इसमस्जिदकाइतिहासबहुतपुरानाहै।इसकानिर्माणदिल्लीपरकब्जाकरनेकेबादसन्1192मेंकुतुबुद्दीनएबकनेकरायाथा।इसकाकार्य1198मेंपूराहुआ।पुरातात्वितदस्तावेजोंमेंसाफतौरपरवर्णितहैकिकुतुबद्दीनएबकनेइसे27हिंदूवजैनमंदिरोंकोतोड़करबनवायाथा।इनमंदिरोंकेनक्काशीदारस्तंभोंऔरअन्यवास्तुकलासंबंधीखंडोंसेइसेबनवायागयाथा।इसमस्जिदमेंस्तंभोंपरदेवीदेवताओंकीमूर्तियांआजभीदेखीजासकतीहैं।इसमस्जिदकाकाफीहिस्साढहचुकाहै।मगरमस्जिदकेजोअवशेषबचेहैंवेपर्यटकोंकाध्यानअपनीओरआकर्षितकरतेहैं।इसमेंअधिकतरमूर्तियोंकोक्षतिग्रस्तकियाजाचुकाहै।

कहाजाताहैकिइन्हेंयहांलगानेजानेकेसमयहीक्षतिग्रस्तकरदियागयाकिजिससेलोगयहांपूजापाठकरनानशुरूकरदें।मस्जिदमेंलगीदेवीदेवताओंकीमूर्तियोंकोलेकरकुछसालपहलेविवादहोचुकाहै।कईहिन्दूसंगठनयहांपूजाअर्जनाकरनेपहुंचगएथे।उनकीसबसेअधिकआपत्तिइसमस्जिदकेपीछेकेभागमेंलगीमूर्तिकोलेकरअधिकथी।जिसेएकनालीकेऊपरलगायागयाहै।इसकेबादभारतीयपुरातत्वसर्वेक्षण(एएसआइ)नेइसमूर्तिकेऊपरलोहेकामोटरजाललगवादियाहै।ऐसाकहाजाताहैकियहमूर्तिगणेशजीकीहै।बतायाजारहाहैकिपूर्वमेंइसस्तंभोंकेऊपरप्लास्टरकियागयाथाजोअबस्तंभोंसेउतरगयाहै।कुतुबमीनारकेआसपासएकछोटीचारदीवारीक्षतिग्रस्तहुईहै।उसमेंभीपत्थरकीमूर्तिनिकलीहै।जिसेवहींरखवादियागयाहै।जिसेवहींरखवादियागयाहै।यहांचारसौवींशताब्दीमेंराजाअनंगपालविष्णुपर्वतसेविभिन्नधातुकाबनाविष्णुस्तंभलेकरआएथेजोआजभीइसीपरिसरमेंस्थितहै।इसस्तंभपरगुप्तकालकीलिपिमेंसंस्कृतमेंएकलेखहै।जिसेपुरालेखीयदृष्टिसेचतुर्थशताब्दीकानिर्धारितकियागयाहै।

बतादेंकिअध्योयामेंराममंदिरकोलेकरचलरहीकसरतकेदौरानइनमस्जिदकाजिक्रआयाहै।भारतीयपुरातत्वसर्वेक्षण(एएसआइ)केपूर्वनिदेशकडा.केकेमुहम्मदनेअपनेबयानमेंकहाहैकिअयोध्यामेंबाबरीमस्जिदकेहालातभीदिल्लीस्थितकुव्वुतुलइस्लाममस्जिदकीतरहथे।

हिंदूसंगठनोंकादावाहैकिजिसस्थानपरमस्जिदहैयहांपरभीपूर्वमेंमंदिरथा

यूनाइटेडहिन्दूफ्रंटकेअंतरराष्ट्रीयकार्यकारीअध्यक्षजयभगवानगोयलकाकहनाहैकिइसस्थानपरभीमंदिरथा।मंदिरोंकोतोड़करजोढांचाखड़ाकियागयाहै,वहमस्जिदनहींबल्किमंदिरहै।इसमेंहिन्दूदेवीदेवताओंकीमूर्तियांहैं।गणेशजीकीपत्थरकीमूर्तिभीइसढांचेमेंलगीहै।यहांकीस्थितिभीअयोध्याकीरामजन्मभूमिस्थानपरपूर्वमेंबनाएगएढांचेजैसीहै।वहकहतेहैंकिमेरीभारतसरकारसेअपीलहैकिइसेमंदिरघोषितकियाजानाचाहिए।मंदिरहोनेकेसभीप्रमाणइसढांचेमेंमौजूदहैं।इसढांचेकोदेखकरहिन्दुआेंकीभावनाओंकोठेसपहुंचतीहै।

वहीं,भारतीयपुरातत्वसर्वेक्षण(एएसआइ)केउत्तरीक्षेत्रकेपूर्वनिदेशकडॉ.केकेमोहम्मदकहतेहैंकियहबातसहीहैकिकुतुबमीनारस्थितकुव्वतुलइस्लाममस्जिद27हिंदूऔरजैनमंदिरोंकोतोड़करबनाईगईहै।उन्होंनेकहाकिपुरानेसमयमेंकुछगलतियांहुईहैं,मगरइसकेलिएआजकेमुस्लिमजिम्मेदारनहींहैं।

Coronavirus:निश्चिंतरहेंपूरीतरहसुरक्षितहैआपकाअखबार,पढ़ें-विशेषज्ञोंकीरायवदेखें-वीडियो

By Ellis