भोपालजेएनएन।कोरोनासंक्रमितबच्चोंकीसंख्याबढ़तीजारहीहै।भोपालमेंरोजानामिलनेवाले मरीजोंमेंकरीबनौफीसदीबच्चेहैं।शहरकेबालरोगविशेषज्ञोंनेकहाकियहअच्छीबातहैकिबच्चे संक्रमितहोनेकेतीनसेपांचदिनोंकेभीतरठीकहोरहेहैं।एकनिजीअस्पतालकेसंचालकवबाल रोगविशेषज्ञडॉ.राकेशमिश्रानेबतायाकिअस्पतालपहुंचनेवालेज्यादातरबच्चोंकीउम्रछहमाहसे पांचसालकेबीचहै,उन्होंनेबतायाकिअस्पतालमेंभर्तीकरीब10फीसदीबच्चोंकोआक्सीजनसपोर्ट पररखनेकीजरूरतपड़रहीहै।डा.राकेशमिश्रानेकहाकिनिमोनियासेज्यादाउनबच्चोंमेंसेप्सिस केलक्षणपाएजारहेहैंजोकोरोनासेसंक्रमितहैं।इसरोगमेंकिसीभीअंगकोप्रभावितकरनेकेबाद संक्रमणरक्तकेमाध्यमसेपूरेशरीरमेंफैलजाताहै।अन्यबालरोगविशेषज्ञोंनेकहाकिबच्चेवाहक बनरहेहैं।परिवारकेबड़ेलोगइनसेसंक्रमितहोरहेहैं।इसलिएबच्चोंकोबाहरनजानेदें।

5सालसेकमउम्रकेबच्चोंकोमास्कनहींपहनाएं

5 सालतककेबच्चोंकोमास्कपहननेकीजरूरतनहींहै।मास्कपहननेसेउनकेलिएसांसलेनामुश्किलहोसकताहै।इसकेअलावावहबार-बारमास्कहटाएंगे,जिससेसंक्रमणऔरबढ़ेगा।दूसरे,वयस्कोंकेकोरोनासंक्रमणकाएकबड़ाकारणबच्चेबनतेजारहेहैं,क्योंकिअधिकांशबच्चोंमेंलक्षणनहींहोतेहैं।वहघरकेसभीबड़ोंकेपासजाताहै।ऐसेमेंजरूरीहैकिबच्चोंकोबाहरनजानेदें।बच्चोंकाखानाअच्छारखें।शरीरमेंपानीकीकमीनहोनेदें।बच्चोंकोआठसेदसघंटेकीनींदकीजरूरतहोतीहै।छहमाहसेकमउम्रकेबच्चोंकोकेवलमांकादूधहीदें।

-डा.महेशमहेश्वरी,प्रोफेसर,शिशुरोगविभागएम्स

कोरोनासेसंक्रमितकरीब30फीसदीबच्चोंमेंबुखार,गलेमेंखराश,खांसीऔरपेटदर्दकेसाथडायरियाकीशिकायतहै।बड़ोंमेंभीबच्चेसंक्रमणकाकारणबनरहेहैं।यहसुनिश्चितकरनेकेलिएविशेषध्यानदेनेकीआवश्यकताहैकिबच्चेअच्छीनींदलें।शरीरमेंपानीकीकमीनहोनेदें।लगभग30प्रतिशतबच्चोंमेंभीमांसपेशियोंमेंदर्दकेमामलेदेखेजारहेहैं।अच्छीबातयहहैकितीन-पांचदिनोंमेंबच्चोंकीसमस्यादूरहोरहीहै।बिनाडाक्टरकीसलाहकेबाजारसेदवाखरीदकरबच्चोंकोनदें।

-डॉराजेशटिक्कास,एसोसिएटप्रोफेसर,हमीदियाअस्पताल

By Duffy