अयोध्या,संवादसूत्र।लक्ष्मणकिलापरिसरमेंसितारोंसेसज्जितरामलीलाकेछठवेंदिनसरयूकेसमानांतरभक्तिकीधाराप्रवाहितहोरहीहोतीहै।मातासीताकीखोजमेंश्रीरामएवंलक्ष्मणवन-वनभटकरहेहोतेहैं।उधरशबरीअपनेआश्रममेंचिरकालसेश्रीरामकीप्रतीक्षाकरतेहुएभक्तिमेंलीनहोतीहैंऔरइसीलीनतामेंउनकेकंठसेयहस्वरफूटरहेहोतेहैं-बसोरेमोरेनैननमेंरघुवीर/मनयेमेराअवधपुरीहै/तनहैसरयूतीर...।इसीबीचशबरीकेआश्रममेंबच्चियोंकाप्रवेशहोताहैऔरवेहांफतीहुईबतातीहैं,दादीमां!श्रीरामचंद्रजीएवंलक्ष्मणजीपधाररहेहैं।

शबरीकोइससूचनापरसहसाविश्वासनहींहोताऔरवेकहतीहैंकिजोयोगियोंकेध्यानमेंनहींआते,क्यावेमुझकंगालिनीकीकुटियापरआएंगे।अगलेपलवेश्रीरामऔरलक्ष्मणकेस्वागतकीचि‍ंतामेंदिखतीहैं।सोचतीहैं,मेरेपासपूजाकेलिएचंदननहींऔरनपुष्पहीहैं।शबरीइसीउधेड़-बुनमेंहोतीहैं,तबतकश्रीरामऔरलक्ष्मणउनकेआश्रममेंपधारचुकेहोतेहैं।प्रेममग्नशबरीश्रीरामकेचरणोंमेंगिरजातीहैं।पृष्ठमेंशबरीकीभक्तिपरिभाषितकरतीरामचरितमानसकीयहप्रतिनिधिपंक्तिगूंजतीहै-प्रेममगनमुखबचननआवा/पुनिपुनिपदसरोजसिरनावा/सादरजलजैचरनपखारे/पुनिसुंदरआसनबैठारे।

शबरीकीभूमिकामेंप्रख्यातगायिकापद्मश्रीमालिनीअवस्थीअपनेअभिनयकाभीलोहामनवारहीहोतीहैंऔरश्रीरामसेसंवादकेदौरानउनकीयहप्रतिभाऔरचमककेसाथप्रस्तुतहोतीहै।भक्तिअकि‍ंचित-अहंकारशून्यहोतीहैऔरइसतथ्यकोशबरीकीभूमिकामेंमालिनीबखूबीजीवंतकररहीहोतीहैं।शबरीकीभूमिकामेंवेस्वयंकोसंयतकरश्रीरामकेसम्मुखसंवादकेलिएप्रस्तुतहोतीहैं।यहकहतेहुए,हेप्रभुआपबड़ेदयालुहो,एकअछूतकोइतनामानदेरहेहो।

श्रीरामकीभूमिकामेंसोनूडागरश्रीरामकीछविकेअनुरूपभक्तवत्सलऔरशीलएवंऔदार्यकीप्रतिमूर्तिनजरआतेहैं।कहतेहैं,हेशबरीमैंजाति-पांतिकेबंधनमेंनहींहूंऔरजोमेरीनौप्रकारकीभक्तिमेंसेएककोभीपालेताहै,वहपरमधामकोजाताहै।तुम्हेंमेरीभक्तिप्राप्तहोगी,यहीमेरेदर्शनकाफलहै।तदुपरांतश्रीरामसहजताकापरिचयदेतेहुएकहतेहैं,अच्छाशबरीभूखलगीहैऔरकुछखानेकोहोतोलाओ।साध्यकेसम्मुखसंकोचमेंलिपटीशबरीपूरीतेजीसेश्रीरामकेसामनेबेरलाकरप्रस्तुतकरतीहैंऔरश्रीरामकोस्वादिष्टबेरमिलें,यहसुनिश्चितकरनेकेलिएवेबेरपहलेचखतीहैं।

शबरीकेजूठेबेरलक्ष्मणतोफेंकदेतेहैं,कि‍ंतुश्रीरामसहजस्वीकारकरतेहैं,औरकहतेहैं,यहबेरबहुतमीठेऔरस्वादिष्टहैं।श्रीरामकेपूछनेपरशबरीमातासीताकीखोजमेंश्रीरामकोपंपासरोवरजानेऔरवहांसुग्रीवसेमित्रताहोनेकीभविष्यवाणीकरतीहैं।...तोश्रीरामकृतज्ञतास्वरूपशबरीकोअपनेचरणोंकीअनन्यभक्तिप्रदानकरतेहैं।इससेपूर्वसीताहरणएवंजटायुकेअंतिमसंस्कारकामंचनआंखेंनमकरनेवालारहा।

जगमगारहीअयोध्या:मालिनी

लक्ष्मणकिलापरिसरमेंबालीवुडकेसितारोंसेसज्जितरामलीलामेंशबरीकीभूमिकानिभानेआईंप्रख्यातगायिकापद्मश्रीमालिनीअवस्थीनेकहाकिआजअयोध्याजगमगारहीहै।उन्होंनेअयोध्याकोविशेषसम्मानदेनेकेलिएप्रदेशसरकारकेप्रयासोंकीसराहनाकी।कहाकिअयोध्याकीसाफ-सफाईऔरपर्यटनकी²ष्टिसेसाज-सज्जाआकर्षितकरनेेलगीहै।उन्होंनेसरयूजलकीस्व'छताकाभीजिक्रकिया।