महेशशुक्ल,नईदिल्ली।बीतेसप्ताहशुक्रवारकोअमेरिकीप्रांतकैलिफोर्नियाकेसैनजुआनशहरमेंदिग्गजएथलीटोंकेबीचसाउंडरनिंगट्रैकमीटमें5,000मीटरमेंभारतीयएथलेटिक्सजगतकासबसेपुरानाराष्ट्रीयरिकार्डतोड़नेवालेसाबलेतरक्कीकेट्रैकपरहैं,एकसधीगतिसेलक्ष्यकीओरअग्रसर।इसमीटमेंउन्हेंकोईपदकनहींमिला,12वेंस्थानपररहे,लेकिनइसप्रदर्शनसेभारतीयोंकीउम्मीदेंसातवेंआसमानपरपहुंचगईहैं।इसएथलीटकीउपलब्धिकाअंदाजाइसबातसेलगाइएकि5,000मीटरउनकीमूलस्पर्धानहींहै।वहकेवलदूसरीबारहीइसमेंभागलेरहेथेऔरविश्वकेश्रेष्ठएथलीटोंकेबीचउनकीइसकेलिएतैयारीभीपूरीनहींथी।नहींथाएथलीटबननेकासपना:कहाजाताहैकिप्रतिभाकोछिपायानहींजासकताहै।इसीबातकोप्रमाणितकरतेहैंधावकअविनाशसाबले।

एथलीटबननेकाजिसकाकभीसपनानरहाहो,खेलकीदुनियासेवास्तानरहाहो,वहमात्रसातवर्षकेचमकदारकरियरमेंरिकार्डपररिकार्डबनारहाहै,ओलिंपिकस्तरकेधावकोंकोपछाड़रहाहै।वर्ष2015मेंभारतीयसेनाकेएथलेटिक्सप्रोग्राममेंक्रासकंट्रीरनरकेतौरपरअविनाशशामिलहुए,प्रशिक्षकनेप्रतिभाकोपहचानाऔरआजवहअमेरिकाकेकोलराडोमेंएशियाईखेल,औरओलिंपिककेलिएप्रशिक्षणप्राप्तकररहेहैं।वहविश्वचैंपियनशिपमेंक्वालीफाईकरनेवालेभारतकेपहलेपुरुषएथलीटहैं।टेक्निकलऔरमेंटलट्रेनिंगकोअपनाया:वर्षोसेसूखेसेजूझतेमहाराष्ट्रकेबीडजिलेकेमांडवागांवमेंजन्मलेनेवालेअविनाशउपलब्धियोंसेप्यासबुझानेमेंमाहिरहैं।हालांकिवहउपलब्धियोंकोयादनहींरखतेहैंऔरयहउनकेगुरुदिवंगतनिकोलाईस्नेसारेवकीसीखहै।

स्नेसारेवनेअविनाशकोजीवनदर्शनभीदियाजिसेयहएथलीटसदैवमनसा,वाचा,कर्मणापालनकरताहै।उन्हींकीसीखथी-कभीपीछेमतदेखो,कभीअपनीउपलब्धियोंपरगर्वमतकरो।भारतमेंएथलेटिक्सकेराष्ट्रीयकोचरहेस्नेसारेवनेयहबातअविनाशकोलगभगचारवर्षपहलेतबबताईथीजबइसएथलीटकाकरियरआरंभहीहुआथा।अविनाशनेटेक्निकलट्रेनिंगकेसाथमेंटलट्रेनिंगकोभीदिलसेसीखाऔरआजओलिंपिकमेंकांस्यपदकविजेताजोशकेरकोरेसमेंपीछेछोड़देतेहैं।भारतीयएथलेटिक्सकेमुख्यकोचराधाकृष्णननायरउन्हेंएशियाईखेलोंकेलिएबड़ीप्रतिभामानरहेहैं।

कोचकोकियायाद:जब2021मेंराष्ट्रीयखेलसंस्थानपटियालामेंअविनाशने3,000मीटरमेंनयारिकार्डबनाया,तबकोचस्नेसारेवकाहृदयाघातसेनिधनहोगयाथा।अनिवाशनेकोचकीयादमेंइंटरनेटमीडियापरलिखा,‘सर,आपकीसिखाईहुईबातोंकापालनलगातारकररहाथा।आपकेलिएकितनाभीलिखूं,कमहै।’सियाचिनसेरेगिस्तानतक:सियाचिनकीहड्डियांगलातीसर्दीहोयाराजस्थानमेंरेगिस्तानकीझुलसादेनेवालीगर्मीयाउलझादेनेवालेपूवरेत्तरकेघनेजंगल,अविनाशनेसैनिककेतौरपरअपनीहरतैनातीसेजोसीखाहै,उसेएथलेटिक्सकेट्रैकपरजीवंतकरदियाहै।वहजैसेदौड़तेहीइसलिएहैंकिहरहालमेंरिकार्डबनानाहै।उड़नसिखमिल्खासिंह,उड़नपरीपीटीउषाऔरबहादुरप्रसादसरीखेदिग्गजएथलीटोंपरगौरवकरनेवालेइसदेशकोअबअविनाशसाबलेसेवैश्विकमंचपरपदकोंकीआसहै,कीर्तिमानोंकीप्यासहै।

करदियाबहादुरीभराकाम:अमेरिकामेंहुईमीटमेंउन्होंनेजिस5,000मीटरस्पर्धाकाराष्ट्रीयरिकार्ड(13मिनट29.70सेकेंड)तोड़ा,वहवर्ष1992सेमहानधावकबहादुरप्रसादकेनामपरथा।साबलेनेयहदूरी13मिनट25.65सेकेंडमेंपूरीकी।यहपहलारिकार्डनहींहै,जोउन्होंनेतोड़ाहै।साबलेकोअबभारतीयएथलेटिक्समेंरिकार्डतोड़नेकेलिएजानाजाताहै।अपनीमूलस्पर्धा3,000मीटरस्टीपलचेज(8मिनट16.21सेकेंड)मेंवहसातबाररिकार्डतोड़चुकेहैं।अविनाशकेनामपरहाफमैराथनकाराष्ट्रीयरिकार्ड(एकघंटा,00.30सेकेंड)भीहैऔरयहउन्हेंविशिष्टएथलीटबनाताहै।अलग-अलगस्पर्धाओंकेराष्ट्रीयरिकार्डरखनेऔरलगातारउन्नतकरनेवालाएथलीट।वहशारीरिकरूपऔरमानसिकरूपसेकाफीसक्षमहैं।इसमेंभारतीयसेनाकीभीअहमभूमिकाहै।

By Elliott