गौरवदुबे,अलीगढ़।पापा,मैंठीकहूं।पर,हमलेकेबादसेयहांदुकानेंबंदहैं।राशनएकदिनकाबचाहै।आगेसमस्याहोसकतीहै।उर्वसीकीइसचिंतानेउनकेपिताप्रतिभाकालोनीकेभानुप्रतापसिंहकेहोशउड़ारखेहैं।यूक्रेनमेंमेडिकलकीपढ़ाईकरनेगईअपनीबेटीकीसलामतवापसीकीदुआपरिवारमेंतीनदिनसेकीजारहीहै।घरोंमेंपूजा,अनुष्ठानचलरहेहैं।

जिलेके40परिवारोंकीनींदउड़ी

यहहालजिलेके40परिवारोंकाहै।यूक्रेनमेंफंसेइनकेबच्चेकबऔरकैसेआएंगे?यहतोइन्हेंनहींपता,लेकिनसरकारकुछअच्छाकरेगीयहउम्मीदबनीहुईहै।यूक्रेनमेंबिगड़ेेहालातइनकीबेचैनीबढ़ातेजारहेहैं।बच्चोंसेबातचीतमेंवहांकीदशहतऔरजिंदगीजीनेकीचुनौतीअकल्पनीयहै।फिलहालराहतकिसीकोनजरनहींआरही।सुशीलासिंहराजपूतनेअपनीबेटीउर्वशीसेवीडियोकालिंगपरबातकी।उन्होंनेबतायाकिबेटीहमलेकेखौफकेबीचअपनेफ्लैटमेंआनलाइनपढ़ाईतोकररहीहैलेकिनखाने-पीनेकीचीजेंपांचगुनाज्यादारेटपरथीं।अभीएकसेडेढ़दिनकाराशनहीबचाहुआहै।वहउर्वशीइवानोस्थितयूनिवर्सिटीसेपढ़ाईकररहीहैं।कावेरीवाटिकानिवासीमोरमुकुटयादवनेबतायाकिउनकाबेटासुमितयादवइवानोमेंहीरहकरपढ़ाईकररहाहै।दोपहरमेंबातहुईतोबतायाकिमार्केटबंदहै,कहींआने-जानेकीसंभावनानहींहै।हमलेकाखौफहै,आनलाइनपढ़ाईचलरहीहैलेकिनखानेकीसमस्याखड़ीहोरहीहै।हमलेसेपहलेहीखाद्यवस्तुएंपांचगुनाज्यादारेटमेंमिलरहीथीं।अबएकदिनकाराशनबचाहै।फिरखानेकोकुछनहींहै।स्वर्णजयंतीनिवासीअमोदउपाध्यायकाबेटासार्थकयूक्रेनकीराजधानीकीवीमेंफंसाहुआहै।डा.विश्वमित्रआर्यकाबेटाऋत्विकवाष्र्णेयनेकीरातबंकरमेंकटी।सुबहखानेकीपूरीव्यवस्थाभीनहींकरपाएकिसायरनबजगया।छात्रोंकेसामनेखाने-पीनेकाभीसंकटपैदाहोगयाहै।एटीएममेंपैसेभीखत्महोनेलगेहैं।

अभिभावकएसोसिएशनआयाछात्रोंकेसाथ

यूक्रेनमेंफंसेजिलेकेविद्यार्थियोंकीवतनवापसीकेसंबंधमेंअलीगढ़अभिभावकएसोसिएशननेशुक्रवारकोप्रार्थनासभाकाआयोजनकिया।पदाधिकारियोंनेप्रशासनवसरकारसेमांगकीकिविद्यार्थियोंकोएअरलिफ्टकराकरवतनवापसीकराईजाए।एसोसिएशनप्रभारीअनुरागगुप्तानेबतायाकिमांगकेसंबंधमेंपीएमओकार्यालयकोपत्रभीभेजाजारहाहै।प्रार्थनासभामेंअनिलवर्मा,उमेशश्रीवास्तव,सुधीरवाष्र्णेय,डा.नवनीतवाष्र्णेय,विवेकगुप्ता,दीपकवाष्र्णेय,सौरभगुप्तावप्रभातरजनीशआदिमौजूदरहे।

इसलिएमेडिकलछात्रजातेहैंयूक्रेन

2021मेंआयोजितनीटमेंकरीबआठलाखसेज्यादाविद्यार्थीशामिलहुएथे।भारतमेंएमबीबीएसकीकरीब88हजारसीटेंहैं।ऐसेमेंकरीबसातलाखसेज्यादाविद्यार्थियोंकाडाक्टरबननेकासपनाकेवलसपनाहीरहजाताहै।भारतमेंएमबीबीएसकीपढ़ाईभीमहंगीहै।यहांनिजीमेडिकलकालेजमेंपढऩेपरकरीबएककरोड़रुपयेतकखर्चआताहै।यूक्रेनमेंमेडिकलकीपढ़ाईकीसुविधाएंभीयहांसेबेहतरहैं।यहांकुलखर्चलगभग25लाखरुपयेतकआताहै।छात्राउर्वशीकेपिताभानुप्रतापनेबतायाकिबेटीकीनीटमेंरैंककुछकमआईथी,भारतमेंउसकोनिजीकालेजमेंपढ़ाईकरानामुमकिननहींथा।भारतमेंएककरोड़सेज्यादाकाखर्चआरहाथा,जोयूक्रेनमेंपढ़ाईवरहनेकेखर्चकेसाथकरीब14से15लाखरुपयेतकराशिलगरहीहै।यूक्रेनसेपढ़ाईकरकेलौटनेकेबादभारतमेंफारेनमेडिकलग्रेजुएट्सएग्जामिनेशन(एफएमजीई)पासकरनाहोताहै,जोप्रैक्टिसशुरूकरनेकेलिएअनिवार्यहैतोरोजगारकीपुख्तागारंटीभीहोजातीहै।

प्रशासननेजारीकियाहेल्पलाइननंबर

यूक्रेनमेंफंसेजिलेकेछात्रोंवनागरिकोंकीमददकेलिएस्थानीयस्तरपरकंट्रोलरूमशुरूकरदियागयाहै।छात्रोंकीहरसंभवमददकेलिएजिलाप्रशासननेडिप्टीकलेक्टरमो.जफरकोनोडलअधिकारीबनायाहै।इनकामोबाइलववाट्सएपनंबर9899372535जारीकियागयाहै।इसकेसाथहीचौबीसघंटेकेलिएकंट्रोलरूमसंचालितकरदियागयाहै।इनकेनंबर05712420100,,7906856081,9837606908,9315097762हैं।ईमेलआइडी[email protected]है।एडीएमवित्तएवंराजस्वविद्यानजयसवालनेबतायाकिकिसीकाबच्चायापरिवारकोकोईसदस्ययूक्रेनमेंफंसाहुआहैतोवहलिखितमेंसूचितकरेंऔरदिएगएनंबरोंपरभीबताए।उन्होंनेहरसंभवमददकाआश्वासनदिलातेहुएकहाहैकिजिलाप्रशासनइसकठिनाईकेदौरमेंउनकेसाथखड़ाहै।

By Edwards