दुमका:सादगीऔरसरलताकेप्रतीकरहेभारतकेप्रथमराष्ट्रपतिडॉक्टरराजेंद्रप्रसादकीजयंतीसोमवारकोडिनोवोस्कूलकेप्रांगणमेंमनायीगई।बच्चोंकेसाथशिक्षिकाओंनेउनकेचित्रपरपुष्पअíपतकिए।

स्कूलकीउपनिदेशकअर्चनामिश्रानेराष्ट्रहितमेंकामकरकेदेशकेविकासमेंयोगदानदेनेकीअपीलकरतेहुएउनकीजीवनीपरप्रकाशडाला।बतायाकिराजेंद्रप्रसादकाजन्मबिहारकेजीरादेईमें3दिसंबर1884कोहुआथा।उनकेपिताकानाममहादेवसहायतथामाताकानामकमलेश्वरीदेवीथा।

उनकीप्रारंभिकशिक्षाछपरा(बिहार)केजिलास्कूलसेहुईथी।मात्र18वर्षकीउम्रमेंउन्होंनेकोलकाताविश्वविद्यालयकीप्रवेशपरीक्षाप्रथमस्थानसेपासकीऔरफिरकोलकाताकेप्रसिद्धप्रेसीडेंसीकॉलेजमेंदाखिलालेकरलॉकेक्षेत्रमेंडॉक्टरेटकीउपाधिहासिलकी।वेहिन्दी,अंग्रेजी,उर्दू,बंगालीएवंफारसीभाषासेपूरीतरहपरिचितथे।राजेंद्रप्रसादनेएकवकीलकेरूपमेंकरियरकीशुरुआतकीथी।बादमेंवहभारतीयस्वतंत्रताआंदोलनमेंशामिलहोगए।

भारतकेराष्ट्रपतिकेरूपमेंउनकाकार्यकाल26जनवरी1950से14मई1962तककारहा।सन1962मेंअवकाशप्राप्तकरनेपरउन्हें'भारतरत्न'सेसम्मानितभीकियागयाथा।

डॉ.राजेंद्रप्रसादका28फरवरी1963कोनिधनहोगया।महानदेशभक्त,सादगी,सेवा,त्यागऔरस्वतंत्रताआंदोलनमेंअपनेआपकोपूरीतरहहोमकरदेनेकेगुणोंकोकिसीएकव्यक्तित्वमेंदेखनाहोतोउसकेलिएभारतकेपहलेराष्ट्रपतिडॉ.राजेन्द्रप्रसादकानामलियाजाताहै।मौकेपरस्कूलकेप्रबंधकराजीवमिश्रप्रशासनप्रबंधकनेहादलाई,सुशांतराणाअसिस्टेंट,एजराप्रसाद,प्रशासनउपप्रबंधकनिशांतदत्त,प्रशासनउपप्रबंधकनयनतारागुप्त,निकिताथापा,मनोजभंडारी,चंद्रकांतकुमार,¨पकू,प्रतिभाराय,एमालेपचा,सेलिनाराय,दीपिकाशर्मा,शिवांगीराय,वसीम,¨पकूनयन,अखिलेश,परिमलदेस्कूलकेकानूनीसलाहकारमनोजमिश्रसमेतछात्र-छात्राएंउपस्थितथे।

By Field