जागरणसंवाददाता,कन्नौज:पुलिसकीसाइबरक्राइमसेलमेंमहजदोकर्मचारीकार्यरतहैं।वर्तमानमेंव्यापकस्तरपरहोरहीसाइबरठगीकेमामलोंसेनिपटनेकेलिएआधुनिकतकनीकऔरसंसाधनोंकीआवश्यकताहै।

पुलिसलाइनमेंसाइबरसेलकादफ्तरहै,जबकिकानपुरमेंजोनस्तरपरथानाखोलागयाहै।जिलेमेंएकहफ्तेमेंऔसतनएकसाइबरक्राइमकीघटनाहोजातीहै,इसकीजांचऔरविवेचनासाइबरसेलकोदीजातीहै।इसमेंतकनीककेसाथदिमागकाभीइस्तेमालकरनाहोताहैकिसाइबरठगबहुतहीहोशियारीसेलोगोंकोशिकारबनाकररुपयेठगतेहैं।ऐसेमेंपीड़ितद्वारादीगईजानकारीकेअनुसारउसकेसकीविवेचनाकीजातीहै।पहलेयहदेखनापड़ताहैकिजिसखातेमेंधनराशिगईहै,वहकहांकाहै।इसकेबादउसबैंकअधिकारीकोफोनकरखातेकोफ्रीजकरानापड़ताहै,तबजाकरकहींरुपयेवापसमिलपातेहैं।इसमेंबैंककेअधिकारीभीदिक्कतकरतेहैं,जबउन्हेंआनलाइनठगीकेबारेमेंबतायाजाताहैऔरउससेसंबंधितदस्तावेजई-मेलपरभेजेजातेहैं,तबबैंकसहयोगकरतीहै।साइबरठगीमेंप्रयोगकियेजानेवालेमोबाइलनंबरभीअक्सरफर्जीहोतेहैं,ऐसेमेंवहसर्विलांससेट्रेसनहींहोपातेहैं।अक्सरदेखाजाताहैकिदसहजाररुपयेठगनेवालाअपराधीएकहजारकिलोमीटरदूरकोलकातामेंहै।उसेपकड़नेकेलिएदसहजारसेअधिकरुपयेखर्चहोजाएंगे।इसवजहसेसाइबरठगजल्दीपुलिसकीगिरफ्तमेंनहींआतेहैं।साइबरअपराधीअधिकतरदूसरेराज्योंकेलोगोंकोहीअपनाशिकारबनातेहैं।इसकेलिएवहकईप्रकारकेहथकंडेअपनातेहैं।

11.75लाखरुपयेहुएरिकवर

जिलेमेंसाइबरक्राइमके38मामलेएकसालमेंदर्जकिएगए,जिसमेंअबतक24मामलोंमें11.75लाखरुपयेरिकवरहोचुकेहैं।साइबरसेलकेविशेषज्ञशिवराजसिंहबतातेहैंकियदिबैंकोकासहयोगमिलजाएऔरआनलाइनपेमेंटएप्लीकेशनकोआधारसेलिककरदियाजाएतोसाइबरठगीकेमामलेकमहोसकतेहैं।

साइबरक्राइममेंअलग-अलगतरहकेकेसदर्जहोतेहैं।ऐसेमेंतकनीककेसहारेउसकेसकीविवेचनाकरनीपड़तीहै,जिसमेंअन्यराज्योंकीपुलिसकाभीसहयोगलेनापड़ताहै।यहांऔरअधिककर्मचारियोंकीआवश्यकताहै,जिससेअधिकसेअधिककेसकोकमदिनमेंहलकियाजासके।

-कुलदीपसिंह,प्रभारीसाइबरसेल

जिलेकीसाइबरसेलकोविकसितकियाजाएगा।इसकेलिएकंप्यूटरऔरसाइबरविशेषज्ञपुलिसकर्मियोंकोनियुक्तकियाजाएगा,जिससेकिकमसमयमेअधिकमामलोंकोहलकियाजासकेऔरआनलाइनठगीकरनेवालेगिरोहोंकोपकड़ाजासके।

-प्रशांतवर्मा,पुलिसअधीक्षक