विशेषसंवाददाता॥नईदिल्लीजनसंख्याकेप्रारंभिकआंकड़ोंकेमुताबिक,देशमेंसाक्षरताकीदरपिछलेदशककीतुलनामेंकरीब10प्रतिशतबढ़ीहै।देशमेंइससमयकरीब82.2प्रतिशतपुरुषएवं65.5प्रतिशतमहिलाएंसाक्षरहैं।पिछलेसालसाक्षरहोनेवालीमहिलाओंकीसंख्यामेंपांचप्रतिशतकीवृद्धिहुईहै।इसमामलेमेंकेरलऔरलक्षद्वीपसबसेआगेहैं।इनमेंक्रमश:93और92प्रतिशतसाक्षरताहै।बिहारसबसेपीछेहै,वहांकुल63.82प्रतिशतलोगहीसाक्षरहैं।अरुणाचलकानंबरबिहारसेऊपरहै।वहांसाक्षरताप्रतिशत66.95है।मध्यप्रदेशकाअलीराजपुरऔरछत्तीसगढ़काबीजापुरजिलादेशकेसबसेकमसाक्षरजिलेहैं।पिछलेएकदशकमें21करोड़77लाखलोगसाक्षरहुएहैं।इनमेंमहिलाओंकीसंख्या11करोड़सेज्यादाहैजबकिपुरुषोंकीसंख्या10करोड़है।प्रारंभिकआंकड़ोंकेमुताबिक,देशकीआबादीकेकरीब74प्रतिशतलोगलिखना-पढ़नाजानतेहैं।पिछलेदशकमेंयहआंकड़ा64.83प्रतिशतथा।अबदेशमें44करोड़42लाखपुरुषऔर33करोड़42लाखमहिलाएंसाक्षरहैं।राष्ट्रीयसाक्षरतादरमेंपिछलेदशककेमुकाबले9.2प्रतिशतकाइजाफाहुआहै।इसदौरानमहिलासाक्षरतादर11.8प्रतिशतऔरपुरुषसाक्षरतादर6.9प्रतिशतबढ़ीहै।हालांकिबिहारसाक्षरतादरमेंअबभीसबसेपीछेहै।लेकिनपिछलेदशककीतुलनामेंवहांसाक्षरतादरकरीब17प्रतिशतबढ़ीहै।केरल,दिल्ली,त्रिपुराऔरगोवासहितदसराज्योंऔरकेन्द्रशासितप्रदेशोंने85प्रतिशतसेअधिकसाक्षरतादरहासिलकरकेयोजनाआयोगकेलक्ष्यकोपूराकरलियाहै।15वींजनगणनाकेआंकड़ेबतातेहैंकिदेशमेंनिरक्षरोंकीसंख्यामेंतीनकरोड़सेभीज्यादाकीकमीआईहै।इसक्षेत्रमेंभीमहिलाएंआगेरहीहैं।पिछलेएकदशकमेंजहांएककरोड़40लाखपुरुषोंनेअक्षरज्ञानहासिलकियाहैवहींऐसाकरनेवालीमहिलाओंकीसंख्याएककरोड़71लाखरहीहै।