जागरणसंवाददाता,हमीरपुर:ठंडकेसाथबुखारकाआना,त्वचाकाकालापड़जानायात्वचामेंउभारआजानाऔरहाथ-पांव,अंडकोषयास्तनकेआकारमेंबदलावकोनजरअंदाजनहींकरनाचाहिए।शुरूआतीलक्षणदिखतेहीइलाजकराएंऔरइससेबचें।यमुना-बेतवाजैसीबड़ीनदियोंकेबीचघिरेजनपदमुख्यालयमेंजलभरावकीस्थितिसामान्यसीबातहै।पानीकेभराववालेइलाकोंमेंपैदाहोनेवालेमादाक्यूलेक्समच्छरकेकाटनेसेलोगफाइलेरियाकीचपेटमेंआजातेहैं।डीएमओनेबतायाकिजनपदकेसुमेरपुर,कुराराऔरमौदहाब्लाकमेंफाइलेरियाके250सेअधिकरोगीहैं।शहरीक्षेत्रमेंरमेड़ी,रहुनियांधर्मशाला,भिलावां,गौरादेवीनईबस्तीजैसेइलाकोंमेंफाइलेरियाकेमरीजहैं।ज्यादातरकोहाथीपांवकीशिकायतहै।इसवर्ष(मईतक)16539जांचोंमें45मरीजोंमेंफाइलेरियाकीपुष्टिहुईहै।मौजूदासमयमेंजिलेमें1186फाइलेरियाकेरोगीहैं।नियमितदवाकेसेवनसेठीकहोरहेमरीजजिलामलेरियाअधिकारी(डीएमओ)आरकेयादवनेबतायाकिसुमेरपुरब्लाककेपचखुरागांवके65वर्षीयकिसान,मौदहाब्लाककेअरतरागांवकी12वर्षीयबच्ची,इसीगांवका51वर्षीयवृद्धऔरमुख्यालयकेलक्ष्मीबाईपार्कके65वर्षीयबुजुर्गइनसभीकोगुजरेसालफाइलेरियाकेशुरुआतीलक्षणहुएथे।सभीकाउपचारशुरूहुआऔरनियमितदवा(डीईसीऔरएल्बेंडाजोल)कासेवनकरनेसेअबयहलोगइसरोगमुक्तहैं।लेकिनअभीइन्हेंदोसेलेकरपांचसालतकनियमितदवाखानीहोगीताकिभविष्यमेंकभीदिक्कतनहो।