संवादसहयोगी,रुड़की:तमामजद्दोहदकेबादआखिरकारशिक्षाविभागनेकोविड-19केबीचस्कूलोंकोखोलहीदिया।पहलेदिनकईस्कूलोंमेंअव्यवस्थाएंरही।जबकिकईस्कूलोंमेंसख्तीकेसाथकोविड-19कोलेकरबनाईगईएसओपी(स्टैंडर्सऑपरेटिगप्रोसीजर)काकड़ाईसेपालनकरायागया।स्कूलखुलनेसेछात्रोंकेचेहरेपरउत्साहनजरआया।छात्रसाथियोंसेमिलकरबेहदखुशनजरआए।ज्यादासमयबातोंमेंहीबीता।

लॉकडाउनकेबादसेबंदपड़ेशहरसेदेहाततककेस्कूलोंमेंसोमवारकोसातमाहबादरौनकनजरआई।छात्र-छात्राएंऔरशिक्षक-शिक्षकाएंस्कूलोंमेंघूमतेनजरआए।इसदौरानबीच-बीचमेंलेक्चरकेलिएबजरहीघंटीस्कूलोंमेंलंबेसमयसेपसरेसन्नाटेकोतोड़तीसुनाईदी।आर्यकन्याइंटरऔरएसएसडीइंटरकालेज,जीजीआईसी,बीएसएमइंटरकालेज,गांधीशिल्पकन्याइंटरकालेजआदिमेंएसओपीकाकड़ाईसेपालनहोतानजरआया।आर्यकन्याइंटरकालेजकीप्रधानाचार्यअर्पणाजिदलनेबतायाकिहाईस्कूलकी60एवंइंटरमीडिएटकी40छात्राएंउपस्थितहुईहैं।प्रवेशकेसमयगेटपरपहलेथर्मलस्कैनिगहुई।इसकेबादउनकेहाथोंकोसैनिटाइजकरायागया।जिनछात्राओंकेपासमास्कनहींथे।उन्हेंमास्कदियागया।कक्षामें12सेअधिकछात्राओंकोनहींबैठायागया।सभीकोउचितदूरीपरबैठायागया।एसएसडीइंटरकालेजकीप्रधानाचार्यसीमाविश्नोईनेबतायाकिछात्राएंकमसंख्यामेंआईहै।हालांकिउन्होंनेएसओपीकेमुताबिकपूरीव्यवस्थाएंकीहुईथी।राजकीयइंटरकालेजऔरडीएवीइंटरकालेजमेंकुछअव्यवस्थाएंनजरआई।जीआइसीकेप्रधानाचार्यराममिलनसिंहनेबतायाकिप्रार्थनाकेसमय63छात्रथे।इसकेबादअचानकहीकाफीछात्रआगए।करीब150छात्रउपस्थितहुए।उन्हेंअलग-अलगकक्षोंमेंबैठायागया।इससेथोड़ीदिक्कतेंआई।डीएवीइंटरकालेजकेकार्यवाहकप्रधानाचार्यएसकेरायनेबतायाकिविद्यालयमेंवहछात्रभीआगए,जिन्हेंमंगलवारकासमयदियागयाथा।250सेअधिकछात्रउपस्थितहुएहैं।सभीकोशारीरिकदूरीकापालनकरातेहुएकक्षामेंबैठायागयाथा।मंगलौर,भगवानपुर,लंढौरा,कलियरएवंझबरेड़ाआदिसहितसभीक्षेत्रोंमेंस्कूलखुले।कोविड-19केचलतेस्कूलोंमेंएसओपीकेअनुसारछात्रोंकोकक्षामेंबैठायागया।

सीईओसहितअन्यशिक्षाअधिकारियोंनेकियानिरीक्षण

रुड़की:कोरोनाकालकेबीचस्कूलखुलनेसेअधिकारीभीअलर्टमोडपररहे।मुख्यशिक्षाअधिकारीहरिद्वारडॉ.आनंदभारद्वाजसहितविभागकेअन्यशिक्षाअधिकारियोंनेस्कूलोंमेंपहुंचकरवहांकानिरीक्षणकिया।कोविडकोलेकरकीगईव्यवस्थाओंकाजायजालिया।मुख्यशिक्षाअधिकारीडॉ.आनंदभारद्वाजनेजीआईसीरुड़की,डीएवीइंटरकालेजसहिततमामस्कूलोंकोदेखा।सीईओनेबतायाकिसभीस्कूलोंमेंव्यवस्थालगभगठीकमिलीहै।कुछस्कूलोंमेंछात्रअधिकसंख्यामेंपहुंचेहैं।जिससेकुछदिक्कतेंआईहैं।छात्रोंकोटाइलटेबिलकेआधारपरबुलाएजानेकेलिएकहागयाहै।इसकेअलावाकक्षासमाप्तहोनेकेबादछात्रोंकोसीधाघरभेजदियाजाए।उसेस्कूलमेंसाथियोंकेसाथघूमनेनदियाजाए।

जिलेमें6715छात्र-छात्राएंपहुंचेस्कूल

रुड़की:स्कूलखुलनेकोलेकरआशंकाजताईजारहीथीकिकमहीसंख्यामेंबच्चेस्कूलआएंगे।लेकिनउम्मीदसेअधिकबच्चेस्कूलपहुंचेहैं।हालांकिकुछस्कूलोंमेंछात्र-छात्राओंकीसंख्याकाफीकमरहीहै।सीईओडॉ.आनंदभारद्वाजनेबतायाकिजिलेमें174स्कूलखुलेहैं।हाईस्कूलमें4157वइंटरमीडिएटमें2558छात्र-छात्राएंउपस्थितहुएहैं।1928शिक्षक-शिक्षिकाएंउपस्थितरहे।हाईस्कूलमें24000वइंटरमीडिएटमें18500छात्र-छात्राएंपंजीकृतहैं।

कईबच्चेनहींलाएंअनापत्तिप्रमाण-पत्र

रुड़की:स्कूलोंनेछात्रोंकेअभिभावकसेअनापत्तिप्रमाण-पत्रमांगाथा।लेकिनकईछात्रयहअनापत्तिप्रमाण-पत्रनहींलाए।ऐसेछात्रोंकेअभिभावकोंसेफोनपरशिक्षकोंनेबातकी।साथहीउन्हेंअनिवार्यरुपसेअनापत्तिप्रमाण-पत्रदेनेकेलिएकहागयाहै।

बातेंकरनेमेंज्यादाव्यस्तदिखेछात्र

रुड़की:लंबेसमयबातजबछात्रमिलेतोवहएकदूसरेकोदेखकरखुशहोगए।उनमेंकाफीउत्साहनजरआरहाथा।छात्रअलग-अलगजगहपरखड़ेहोकरबातकरनेमेंज्यादाव्यस्तदिखाईदिये।हालांकिशिक्षकोंनेउन्हेंएकसाथखड़ेनहींहोनेदिया।लेकिनइसकेबादभीजैसेहीछात्रोंकोमौकामिला।उनकीबातेंशुरूहोजातीथी।

ग‌र्ल्सकालेजदिखेज्यादाअनुशासित

रुड़की:वैसेतोसभीस्कूलोंमेंखासीव्यवस्थाएंकीगईथी।सभीस्कूलएसओपीकेअनुसारकार्यकरनेकाप्रयासकररहेथे।लेकिनग‌र्ल्सकालेजोंमेंब्वॉजयस्कूलोंकीअपेक्षाअनुशासनज्यादादिखाईदिया।

By Ellis